स्वतंत्रता दिवस | 15 अगस्त पर निबंध हिंदी में- Independence Day Essay in Hindi

दोस्तों इस आर्टिकल में हम आपके लिए Independence Day Essay in Hindi ( Swatantrata Diwas | 15 August par nibandh ) शेयर कर रहे है, हमने 100 words, 200 words, 250 words, 300 words, 500 words 800 words ke essay लिखे है जो की class 1,2,3,4,5,6,7,8,9,10,11,12 ke students | Vidyarthi ke liye upyogi hai.

In this article, we are providing information about Independence in Hindi | 5 well written essay on Independence in Hindi Language. स्वतंत्रता दिवस पर पूरी जानकारी जैसे की पृष्ठभूमि, इतिहास, महत्व-विशेषता, राष्ट्रीय पर्व का दिन, महत्व, अदि के बारे बताया गया है। 

स्वतंत्रता दिवस पर निबंध हिंदी में| Independence Day Essay in Hindi

Republic Day Essay in Hindi 10 Lines

1. स्वतंत्रता दिवस हमारा महान् राष्ट्रीय पर्व है।

2. सन् 1947 की पन्द्रह अगस्त को ही सर्वप्रथम हमें स्वतंत्रता प्राप्त हुई थी।

3. इस दिन लोग शहीदों के बलिदान को याद करते है।

4. स्वतंत्रता दिवस पर्व प्रति वर्ष पन्द्रह अगस्त को समस्त भारत में अति उत्साह और हर्ष के वातावरण में मनाया जाता है।

5. इस दिन प्रातः काल से ही हर नगर, ” हर कस्बे और गाँव में प्रभात फेरियों का आयोजन होता है।

6. इस दिन भारत की राजधानी दिल्ली में विशेष आयोजन होता है।

7. विद्यालयों, सरकारी-गैरसरकारी भवनों कल-कारखानों, चौराहों, मैदानों आदि पर तिरंगे झंडे फहराए जाते हैं।

8. इस दिन भारत के प्रधानमंत्री लाल किले पर राष्ट्रीय ध्वज फहराते हैं और भारतवासियों के नाम संदेश प्रसारित करते हैं।

9. पन्द्रह अगस्त भारत वर्ष के इतिहास का सबसे उज्जवल पवित्र और महत्वपूर्ण दिवस है।

10. यह दिवस हमें स्वतंत्रता की महिमा का संदेश देता है।

Read Also- 10 lines on Independence Day in Hindi

Short Independence Day Essay in Hindi ( 150 words )

15 अगस्त भारत का स्वतंत्रता दिवस है। पहले हमारा देश गुलाम था। हमारे देश पर अंग्रेजों का शासन था। अंग्रेजी सरकार भारत के लोगों पर अत्याचार करती थी।

भारतवासी अंग्रेजों के साथ लड़े। बहुत से लोगों ने इस लड़ाई में अपने प्राणों का बलिदान किया। अन्त में 15 अगस्त 1947 को भारत आजाद हुआ। तब से इस दिन को राष्ट्रीय पर्व के रुप में मनाते हैं। पर इस दिन पाठशालाओं में खुशी का माहौल रहता है। सबसे पहले झण्डा फहराया जाता है। राष्ट्रगान गाया जाता है। इसके बाद बच्चे अनेक मनोरंजक कार्यक्रम करते हैं। बच्चों में मिठाईयाँ बाँटी जाती हैं।

राजधानी दिल्ली में देश के प्रधानमंत्री लाल किले पर झण्डा फहराते हैं । वे देश की जनता के सामने भाषण देते हैं।

15 अगस्त को पूरा देश खुशी के साथ मनाता है । इस दिन हम उन लोगों को याद करते हैं जिन्होंने आजादी की लड़ाई में बलिदान दिया ।

स्वतंत्रता दिवस |15 अगस्त पर निबंध | 15 August Essay in Hindi ( 300 to 350 words )

स्वाधीनता की इच्छा प्राणिमात्र में रहती है। एक पक्षी भी बन्दी जीवन की अपेक्षा स्वतंत्र जीवन पसन्द करता है, तो मनुष्य का तो कहना ही क्या ? दुर्भाग्य से कुछ शताब्दियों पूर्व भारतीयों को पराधीन होना पड़ा। किन्तु ‘पराधीन सपनेहुं सुख नाहीं’ के अनुसार देश स्वाधीनता के लिए छटपटाने लगा। देशभक्त बुद्धिमानों ने स्वतंत्रता के लिए संघर्ष आरम्भ किया।

देश को स्वाधीन देखने की इच्छा से अनेक वीर हँसते-हँसते फाँसी के तख्ते पर चढ़ गए; अनेकों ने छाती पर अंग्रेजों की गोलियों को सहन किया और हजारों लोग—स्त्री और पुरुष, बालक, युवक और वृद्ध—कारावास के कष्टों को झेलते रहे। अनेक ज्ञात-अज्ञात वीरों ने इस स्वतंत्रता यज्ञ में अपने प्राणों की आहुति दी। तक जाकर हमें स्वतंत्रता के पुण्य प्रभात के दर्शन हुए।

स्वतंत्रता दिवस हमारा महान् राष्ट्रीय पर्व है। यह पर्व प्रति वर्ष पन्द्रह अगस्त को समस्त भारत में अति उत्साह और हर्ष के वातावरण में मनाया जाता है। यही वह पवित्र दिवस है, जब शताब्दियों की पराधीनता के अनन्तर भारत स्वाधीन हुआ था। सन् 1947 की पन्द्रह अगस्त को ही सर्वप्रथम हमें स्वतंत्रता प्राप्त हुई थी।

स्वतंत्रता दिवस का यह उत्सव यद्यपि भारत के नगर-नगर ग्राम-ग्राम में आनन्द और उमंग से मनाया जाता है, पर भारत की राजधानी दिल्ली में इस उत्सव की विशेष चहल-पहल होती है। इस उत्सव का प्रमुख स्थल होता है- लाल किले का मैदान इस मैदान में दिल्ली की जनता उत्सव देखने के लिए उमड़ पड़ती है। इस अवसर पर देश के प्रधानमन्त्री राष्ट्रीय ध्वज लहराते हैं, इकत्तीस तोपों से ध्वज को प्रणाम किया जाता है, और तद् पश्चात् जल, स्थल तथा वायु सेनाओं की टुकडियाँ ध्वज को प्रणाम करती हैं। तदनन्तर प्रधानमन्त्री देशवासियों को स्वतंत्रता दिवस को सन्देश देते हैं। इसके पश्चात् राष्ट्र गान होता है। राष्ट्रगान के अनन्तर यह कार्यक्रम समाप्त हो जाता है। रात्रि में सरकारी भवनों पर प्रकाश भी किया जाता है।

वास्तव में यह भारत के गौरव और सौभाग्य का पर्व है, जो हमारे हृदयों में नवीन आशा, नवीन स्फूर्ति, उत्साह और देश भक्ति का संचार करता है। यह उत्सव हमें स्मरण कराता है कि स्वाधीनता को पाना जितना कठिन है, उसे सुरक्षित रखना उससे भी अधिक कठिन है। अतः सभी भारतवासियों को सब प्रकार के भेद-भाव भुलाकर राष्ट्र की उन्नति के लिए तत्पर रहना चाहिए।

Swatantrata Diwas Essay in Hindi

Hindi Independence day essay lines

Long Essay on Independence Day in Hindi with headings ( 800 words )

भूमिका

बालधर गंगाधर तिलक ने कहा था- “स्वतंत्रता हमारा जन्म सिद्ध अधिकार है। इस मंत्र का अनुकरण करके भारतीयों ने स्वतंत्रता के लिए संघर्ष बलिदान और त्याग किया। 15 अगस्त 1947 को हमारा देश शताब्दियों की गुलामी के बाद आजाद हुआ। इसलिए भारतीयों के लिए पन्द्रह अगस्त का दिन बहुत महत्वपूर्ण है। हिन्दू, मुसलमान, ईसाई, बौद्ध, जैन, सिक्ख सभी धर्मावलम्बी साथ मिलजुल कर इस पर्व को उल्लास और उमंग के साथ मनाते हैं। यह दिवस भारतीयों के त्याग, बलिदान, शौर्य का पवित्र दिन है। यह भारतीय इतिहास का एक स्वर्णिम दिन है।

पृष्ठभूमि

मुगल शासन के अन्तिम दौर में भारत में अनेक यूरोपीय जातियाँ व्यापार करने के लिए आई। कालान्तर में वे भारत पर शासन करने की चेष्टा में लग गई। काफी संघर्ष के बाद अन्ततः अंग्रेजों ने भारत पर अधिकार कर लिया। कुछ समय बाद भारतीयों में स्वतंत्रता की चेतना जागृत हुई। परिणाम स्वरूप सन् 1857 में भारत में प्रथम स्वतंत्रता संग्राम छिड़ा। दुर्भाग्यवश यह प्रथम स्वतंत्रता संग्राम असफल रहा, किन्तु भारतीय जनता में स्वतंत्रता की चेतना बढ़ती गई। सन् 1885 में राष्ट्रीय कांग्रेस के नेतृत्व में आजादी की लड़ाई प्रारम्भ हुई। लम्बे दौर तक यह लड़ाई चलती रही। स्वतंत्रता के लिए अनेक लोगों ने अपना बलिदान दिया, जेल यात्राएँ कीं। क्रांतिकारी और अहिंसक दोनों प्रकार के स्वतंत्रता आन्दोलन होते रहे। महात्मा गाँधी के नेतृत्व में सत्य, अहिंसा और त्याग का सहारा लेकर स्वतंत्रता संग्राम छिड़ा। जिसके फलस्वरूप 15 अगस्त सन् 1947 को भारत स्वतंत्र हुआ और लाल किले पर राष्ट्रीय झंडा फहराया गया।

महत्व

15 अगस्त भारत का स्वतंत्रता दिवस है। यह एक ऐतिहासिक दिन है। इसी दिन भारत शताब्दियों की गुलामी से आजाद हुआ। भारत माँ के पैरों में पड़ी बेड़ियाँ टूटकर बिखर गई। विदेशी शासन का अन्त हुआ। भारत ने स्वतंत्रता के वातावरण में साँस ली। शताब्दियों से चले आने वाले शोषण, अत्याचार और उत्पीड़न का अंत हुआ। इस स्वतंत्रता के लिए अनेक वीरों ने अपने प्राण न्योछावर किए। अनेक राष्ट्रभक्तों ने न जाने कितनी यातनाएँ सहीं। इस दिन हम शहीदों और देश भक्तों को श्रद्धापूर्वक याद करते हैं जिनके बलिदान और त्याग से हमें यह स्वतंत्रता प्राप्त हुई। इस पवित्र दिन को हम शपथ लेते हैं कि हम इस स्वतंत्रता की रक्षा प्राण पण से करेंगे। हम किसी भी मूल्य पर स्वतंत्रता को हाथ से जाने नहीं देंगे। स्वतंत्रता से अधिक मूल्यवान हमारे जीवन में और कोई वस्तु नहीं है। हर कीमत पर इसकी रक्षा करना हर भारतीय का पावन कर्त्तव्य है। स्वतंत्रता दिवस हमारी सबसे अमूल्य धरोहर है।

त्यौहार का दिन

जिस दिन हमारा देश स्वतंत्र हुआ उस दिन से हम प्रतिवर्ष 15 अगस्त को राष्ट्रीय पर्व के रूप में मनाते हैं। इस दिन प्रातः काल से ही हर नगर, ” हर कस्बे और गाँव में प्रभात फेरियों का आयोजन होता है। बच्चे, जवान, बूढ़े, स्त्री-पुरुष सभी अपने हाथों में राष्ट्रीय पताका लेकर स्वतंत्रता के गीत गाते हैं। सारे वातावरण में ‘वन्देमातरम् और जनगण मन अधिनायक’ की ध्वनियाँ गूंजने लगती हैं। विद्यालयों, सरकारी-गैरसरकारी भवनों कल-कारखानों, चौराहों, मैदानों आदि पर तिरंगे झंडे फहराए जाते हैं। जगह-जगह उत्सव मनाए जाते हैं। तरह-तरह के राजनीतिक और सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। शहीदों को श्रद्धांजलियाँ अर्पित की जाती हैं। चारों ओर उल्लास और उमंग का वातावरण दिखाई पड़ता है। इस दिन भारत की राजधानी दिल्ली में विशेष आयोजन होता है। इस दिन भारत के प्रधानमंत्री लाल किले पर राष्ट्रीय ध्वज फहराते हैं और भारतवासियों के नाम संदेश प्रसारित करते हैं।

उपसंहार

पन्द्रह अगस्त भारत वर्ष के इतिहास का सबसे उज्जवल पवित्र और महत्वपूर्ण दिवस है। इस दिवस की स्मृति युगों-युगों तक भारतीयों में त्याग, तप, बलिदान की प्रेरणा देती रहेगी। यह दिवस हमें स्वतंत्रता की महिमा का संदेश देता है। स्वतंत्रता के बाद हमारा देश नवनिर्माण के पथ पर अग्रसर हो रहा है। आज वह अनेक वों में उन्नति कर रहा है। हमारी स्वतंत्रता तभी पूरी होगी जब हम आर्थिक रूप से सम्पन्न होंगे। इस दिशा में हमें प्राणपण से चेष्टा करनी चाहिए।

ध्यान दें – प्रिय दर्शकों Independence Day Essay in Hindi article आपको अच्छा लगा तो जरूर शेयर करे ।

Leave a Comment Cancel Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Easy Hindi

केंद्र एव राज्य की सरकारी योजनाओं की जानकारी in Hindi

  • Festival 2024

15 अगस्त पर निबंध | Essay En Independence Day in Hindi (कक्षा 1 से 10 के लिए निबंध)

Essay on 15th August in Hindi

15 अगस्त पर निबंध : – Essay on 15th August in Hindi: भारतीय इतिहास में 15 अगस्त 1947 सबसे महत्वपूर्ण दिनों में से एक है। यह वो भाग्यशाली दिन है जिस दिन भारत को ब्रिटेन साम्राज्य से आजादी मिली थी। हर साल भारत सरकार के द्वारा इस दिन को एक राष्ट्रीय अवकाश देते हुए स्वतंत्रता दिवस के रूप में मनाया जाता है। हर साल इस पावन अवसर पर स्कूल, कॉलेज, प्राइवेट या सरकारी कार्यालयों में झंडा फहराया जाता है। कुछ स्कूल कॉलेजों में 15 अगस्त पर निबंध ( Essay on Independence day in Hindi ) लिखने का कार्य दिया जाता है। अगर आप उसके तहत 15 अगस्त 2023 पर निबंध ढूंढ रहे हैं. तो आज के लेख में हमने आपको एक बेहतरीन निबंध की जानकारी दी है।

15 अगस्त 1947 को हमारा देश ब्रिटेन साम्राज्य से आजाद हुआ था और इसी पावन दिन हमने अपने प्रथम प्रधानमंत्री के रूप में जोहार लाल नेहरू और प्रथम राष्ट्रपति के रूप में डॉ राजेंद्र प्रसाद को देखा था। यह पहला दिन था जब प्रधानमंत्री ने लाल किला पर तिरंगा झंडा फहराया और स्वतंत्रता दिवस की घोषणा की। 15 अगस्त 2023 भारत के लिए 77वा आजादी दिवस होगा, इस शुभ अवसर पर अगर आप 15 अगस्त के संबंध में कोई निबंध ढूंढ रहे हैं तो इस लेख के साथ अंत तक बनी रहे।

15 अगस्त 2022 पर निबंध हिंदी में

Essay on 15th August in Hindi:- भारत में हर साल 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस नाम के राष्ट्रीय त्यौहार के रूप में मनाया जाता है। 15 अगस्त प्रत्येक भारतीय के लिए एक बहुत ही महत्वपूर्ण त्यौहार है। 200 साल के भीषण संघर्ष के बाद 15 अगस्त 1947 को भारत को आजादी मिली थी। उस दिन को याद करने के लिए 15 अगस्त के दिन प्रधानमंत्री लाल किले पर सबसे पहले झंडारोहण करते है। इसके बाद भारत में मौजूद सभी सरकारी, गैर सरकारी, स्कूल, कॉलेज या अन्य किसी भी कार्यालय में तिरंगा झंडा फहराया जाता है। हर साल लाल किला पर तिरंगा झंडा फहराया जाता है और विश्व के किसी प्रचलित हस्ती को मुख्य अतिथि के रुप में बुलाया जाता है। इसके बाद स्कूल के बच्चों, और आर्मी के नवजवान के द्वारा झांकी निकाली जाती है। इस झांकी में भारत के अलग अलग राज्य की संस्कृति और सभ्यता को आकर्षक रूप से दर्शाया जाता है।

Essay on Independence day in Hindi

15 अगस्त का यह पूरा कार्यक्रम सर्वप्रथम 15 अगस्त 1947 को किया गया था। 200 साल की कड़ी मेहनत के बाद भारत के स्वतंत्रता सेनानी अपना सब कुछ न्यौछावर करके भारत देश को अंग्रेज सरकार से आजाद करवा पाए। 15 अगस्त हमें उन स्वतंत्रता सेनानियों की याद दिलाता है उनके बलिदान और गौरवपूर्ण इतिहास पर अपना सर नमन करने के लिए इस दिन को चुना गया है। 15 अगस्त 1947 भारत के आजादी का दिन था। इस दिन भारत के लोगों ने प्रथम प्रधानमंत्री के रूप में जवाहरलाल नेहरू और प्रथम राष्ट्रपति के रूप में डॉ राजेंद्र प्रसाद को देखा था। तब से लेकर आज तक लगातार 77 सालों से देश का प्रत्येक नागरिक ने अपने प्रधानमंत्री को लाल किला पर तिरंगा झंडा फहरा कर स्वतंत्रता के दिन को याद करते हुए देखा है। 

15 august easy essay in hindi

15 अगस्त पर निबंध हिंदी में 10 लाइन

भारत का हर नागरिक 15 अगस्त को अपने देश पर कुछ अधिक इतराता है और उन स्वतंत्रता सेनानियों को याद करता है। पिछले 77 साल से बड़े भव्य तरीके से स्वतंत्रता दिवस का त्यौहार मनाया जा रहा है। तब से लेकर आज तक भारत ने शिक्षण, आर्थिक, राजनीतिक और सामाजिक तरक्की की है। भारत की तरक्की को झांकी के रूप में हर साल दर्शाया जाता है। आने वाले समय में भी भारत तरक्की का सिलसिला जारी रखेगा और हम देख पाएंगे कि किस प्रकार विभिन्न टेक्नोलॉजी के जरिए इस त्यौहार को और भव्य तरीके से मनाया जाएगा। भारत के आने वाले उज्जवल भविष्य को दर्शाने के लिए इस झांकी में भारत सरकार की तरफ से बेहतरीन हथियारों, और टेक्नोलॉजी की भी प्रदर्शनी की जाती है।

 Essay on Independence Day in Hindi

बहुत सारे लोग स्वतंत्रता दिवस के दिन प्रधानमंत्री के भाषण का इंतजार करते है। स्वतंत्रता दिवस के दिन प्रधानमंत्री के द्वारा दिया जाने वाला भाषण एक महत्वपूर्ण भाषण होता है। हमारे सबसे पहले प्रधानमंत्री श्री पंडित जवाहरलाल नेहरू ने “ट्रस्ट विथ डेस्टिनी” नाम के भाषण के साथ देश के आजादी की घोषणा की थी। उन्होंने बताया था कि हमें अपने भविष्य पर विश्वास रखना चाहिए और देश की तरक्की में लग जाना चाहिए। 200 साल के भीषण संघर्ष के बाद इतने बड़े देश को संभाल कर आगे चलाना बहुत बड़ी समस्या थी मगर हमारे राजनेताओं ने इस लगभग असंभव कार्य को संभव करके दिखाया। यही कारण है कि 15 अगस्त हर एक भारतीय के लिए एक महत्वपूर्ण दिन है। इस दिन को अलग-अलग लोग अलग-अलग तरीके से मनाते है, मगर हर किसी के तरीके में तिरंगा झंडा जरूर होता है। आने वाले समय में यह त्यौहार ऐसे ही ममता रहेगा और भारत हर क्षेत्र में ऊंचाइयों को छूता रहेगा इसी कामना के साथ आने वाली स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं।

15 august easy essay in hindi

FAQ’s Essay on 15th August in Hindi

Q. 15 अगस्त 2022 को भारत के आजाद हुए कितने साल हो जाएंगे.

Ans. 15 अगस्त 2022 को भारत के आजाद हुए कुल 77 वर्ष हो जाएंगे।

Q. 15 अगस्त का क्या महत्व है?

Ans. 15 अगस्त 1947 को भारत ब्रिटेन सरकार से आजाद हुआ था। 15 अगस्त का दिन हमें अपने स्वतंत्रता सेनानियों के सर्वोच्च बलिदान की याद दिलाता है। उनके सम्मान में और भारत देश के सम्मान के लिए यह दिन साल के 365 दिन में सबसे अधिक महत्व रखता है।

Q. 15 अगस्त को कौन सा देश स्वतंत्रता दिवस मनाता है?

Ans. 15 अगस्त को भारत के अलावा नॉर्थ कोरिया भी अपना स्वतंत्रता दिवस मनाता है।

आज इस लेख में हमने आपको 15 अगस्त 2023 पर निबंध लिख कर दिखाया। अगर आप 15 अगस्त के पावन अवसर पर अपना निबंध कहीं प्रस्तुत करने जा रहे हैं तो हमारे द्वारा दिए गए निबंध का इस्तेमाल आप कर सकते है। 15 अगस्त एक बहुत ही पावन त्योहार है इस दिन भारत के हर नागरिक को अपने देश के इतिहास और स्वतंत्रता सेनानियों के सर्वोच्च बलिदान को याद करना चाहिए। अगर हमारे इस लेख के माध्यम से आपके स्वतंत्रता दिवस में एक भावना जुड़ी है तो इसे अपने मित्रों के साथ साझा करें साथ ही अपने सुझाव विचार या किसी भी प्रकार के प्रश्न को कमेंट में पूछना ना भूले।

15 august easy essay in hindi

इस ब्लॉग पोस्ट पर आपका कीमती समय देने के लिए धन्यवाद। इसी प्रकार के बेहतरीन सूचनाप्रद एवं ज्ञानवर्धक लेख easyhindi.in पर पढ़ते रहने के लिए इस वेबसाइट को बुकमार्क कर सकते हैं

Leave a reply cancel reply.

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Save my name, email, and website in this browser for the next time I comment.

Related News

April Fool’s day history, jokes

April Fool’s day, History। अप्रैल फूल डे क्यों मनाया जाता है

Sarswati Puja

Saraswati Puja 2024 | जाने बसंत पंचमी पर सरस्वती पूजा कब व कैसे की जाती है।

Basant Panchami

Basant Panchami 2024 | वसंत पंचमी कब हैं? जानें डेट और पूजा विधि और महत्व

Vasant Panchami Puja Vidhi And Muhurat 2024

Basant Panchami 2024: आज मनाई जाएगी बसंत पंचमी, जानें पूजा विधि और मुहूर्त

हिन्दीदुनिया

15 अगस्त पर निबंध हिंदी में | स्वतंत्रता दिवस पर निबंध

hindidunia

15 अगस्त पर निबंध- स्वतंत्रता दिवस पर निबंध : 15 अगस्त, स्वतंत्रता दिवस, भारत के इतिहास में एक महत्वपूर्ण और गर्व का दिन है। यह दिन भारतीय स्वतंत्रता के अरमानों को साकार करने का दिन है और यह राष्ट्रीय उत्सव रूप में मनाया जाता है।

इस दिन को विशेष बनाने का कारण है भारत की आजादी के लिए संघर्ष करने वाले वीर सेनानियों का सम्मान करना और उनके बलिदान को याद करना। हम इस दिन पर ध्वज फहराते हैं, राष्ट्रीय गाने गाते हैं, और राष्ट्रीय संबोधन सुनते हैं।

स्वतंत्रता दिवस पर हमें अपने देश के प्रति समर्पण करना चाहिए। हमें अपने देश के विकास में सक्रिय रूप से शामिल होना चाहिए और देश के प्रति अपने जज्बे को संवर्धित करना चाहिए। यह एक ऐसा दिन है जिसमें हमें अपने देश की संस्कृति, विरासत, और विकास के प्रति गर्व महसूस होता है।

स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर हमें अपने स्कूल में भी विशेष कार्यक्रम आयोजित करने का अवसर मिलता है। हम देशभक्ति गाने गाते हैं, कविताएँ सुनते हैं, और समर्थन शाला के साथ ध्वज फहराते हैं। इससे हमारे स्कूल के बच्चों में राष्ट्रीय उत्साह और गर्व की भावना विकसित होती है

15 august essay Independence day in hindi

स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर हमें भारतीय संस्कृति और इतिहास को भी अध्ययन करने का अवसर मिलता है। हमें अपने राष्ट्रीय नायकों के बारे में जानकारी मिलती है और उनके साहसिक कार्यों को सुनने का भी मौका मिलता है। इससे हमारे दिल में देश के प्रति एक नया जोश भरता है और हम भारत के वीरों के बलिदान को समर्थन करने के लिए तत्पर हो जाते हैं।

स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर हमें अपने स्कूल में समर्थन शाला का भी आयोजन करने का मौका मिलता है। हम अपने वीर सेनानियों को याद करते हैं और उन्हें उनके बलिदान के लिए सम्मानित करते हैं। समर्थन शाला में हम उन्हें शुभकामनाएँ देते हैं और उनके बलिदान को सराहते हैं। इससे हमारे स्कूल के बच्चों में देशभक्ति की भावना और समर्थन के लिए एक उत्साह भर जाता है।

स्वतंत्रता दिवस के दिन हमें राष्ट्रीय भव्यता के साथ समर्थन शाला को संपन्न करने का मौका मिलता है। हमारे स्कूल के छात्र इस दिन को खास बनाने के लिए अपने नायकों की छवि और भारतीय ध्वज के साथ शाला को सजाते हैं। इससे स्कूल का माहौल उत्साह से भर जाता है और हर किसी को अपने देश के प्रति एक समर्थन भाव होता है।

स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर हमें देशभक्ति और समर्थन के भाव को अपने दिल में समाना चाहिए। हमें अपने देश के वीर सेनानियों को सम्मानित करना चाहिए और उनके बलिदान को समर्थन करना चाहिए। इससे हमारे देश के उज्जवल भविष्य की ओर एक प्रयास होता है और हम अपने देश के विकास में सक्रिय रूप से योगदान कर सकते हैं।

15 अगस्त का महत्व विश्व में भी बड़ा है। यह दिन भारतीय स्वतंत्रता के लिए एक महत्वपूर्ण अध्याय का साक्षी है। 1947 में इस दिन भारत ने ब्रिटिश शासन से अपनी आजादी प्राप्त की थी और एक स्वतंत्र राष्ट्र के रूप में उभरी थी। इस दिन के आगमन से पूरे देश में खुशियाँ मनाई गई थीं और लोग एक-दूसरे को बधाई देने आए थे।

15 अगस्त, 1947 को भारत ने ब्रिटिश शासन से अपनी स्वतंत्रता हासिल की थी। महात्मा गांधी, पंडित जवाहरलाल नेहरू, सरदार वल्लभभाई पटेल, भगत सिंह, सुभाष चंद्र बोस और अनेक वीर सेनानियों ने इस स्वतंत्रता संग्राम में अपना बलिदान दिया था। इस दिन के बाद से भारत एक संयुक्त राष्ट्र के रूप में अपनी पहचान बना रहा है।

समर्थन के तरीके:

स्वतंत्रता दिवस को खास बनाने के लिए हमें भारत के वीर सेनानियों को सम्मानित करने का समय निकालना चाहिए। हम उन्हें शुभकामनाएँ देने और उनके बलिदान को सराहने के लिए उनके सम्मान में विशेष कार्यक्रम आयोजित कर सकते हैं। इससे हमारे समाज में देशभक्ति और राष्ट्रीय उत्साह की भावना उत्पन्न होती है। हम अपने स्कूलों में देशभक्ति गाने गाते हैं, राष्ट्रीय ध्वज फहराते हैं, और वीर सेनानियों के बारे में जानकारी देते हैं।

स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर हमें भारतीय संस्कृति को भी बढ़ावा देना चाहिए। हमें अपनी भाषा, संस्कृति, और विरासत के प्रति गर्व महसूस होना चाहिए। इससे हमारे स्कूल के बच्चे अपनी संस्कृति के प्रति सम्मान रखते हैं और उसे आगे बढ़ाते हैं।

स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर हमें अपने देश के विकास में सक्रिय रूप से शामिल होना चाहिए। हमें अपने देश के लिए काम करने का संकल्प करना चाहिए और उसके लिए सहयोग करना चाहिए। इससे हम अपने देश के प्रति अपने दायित्व को निभाते हैं और उसे एक उच्चतम स्तर पर ले जाते हैं।

स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर हमें अपने देश के वीर सेनानियों को सम्मानित करने के साथ-साथ उनके बलिदान को समर्थन करने का भी मौका मिलता है। हम उन्हें शुभकामनाएं देते हैं और उनके साहसिक कार्यों को सराहते हैं। इससे हमारे देश के वीर सेनानियों को समर्थन मिलता है और हम उनके बलिदान को याद करते हैं।

संक्षिप्त में, 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस एक महत्वपूर्ण राष्ट्रीय उत्सव है जो भारतीय स्वतंत्रता का सम्मान करता है और वीर सेनानियों को सम्मानित करने के लिए अवसर प्रदान करता है। हमें इस दिन को खास बनाने के लिए स्कूल में समर्थन शाला, विशेष कार्यक्रम, और संस्कृति सम्मेलन का आयोजन करना चाहिए। इससे हमारे स्कूल के बच्चे देशभक्ति और राष्ट्रीय उत्साह की भावना से प्रभावित होते हैं और उन्हें देश के उत्थान में सक्रिय रूप से योगदान करने का अहसास होता है।

इस प्रकार, 15 अगस्त पर निबंध हमें यह बताता है कि हमारे देश की स्वतंत्रता के लिए लड़ने वाले वीर सेनानियों के बलिदान को समर्थन करना कितना महत्वपूर्ण है। इस दिन को हमें खास बनाने के लिए हमें स्कूलों में विशेष कार्यक्रम आयोजित करने चाहिए और बच्चों को देशभक्ति और राष्ट्रीय उत्साह के प्रति प्रेरित करना चाहिए। हमें अपने देश की संस्कृति, विरासत, और विकास के प्रति गर्व महसूस करना चाहिए और अपने देश के लिए सक्रिय रूप से योगदान करने का संकल्प करना चाहिए। इससे हम एक समृद्ध, उज्ज्वल, और समृद्धि युक्त भारत की ओर एक कदम आगे बढ़ सकते हैं।

स्वतंत्रता दिवस पर अगर आपको भाषण देना हो तो इस तरह करे तैयारी

क्या आपको भारतीय स्वतंत्रता दिवस का महत्व और इस दिन के उत्सव के बारे में जानकारी है? इस विशेष दिन को आप अपने स्कूल में कैसे मनाना चाहेंगे? हमें नीचे दिए गए सवालों के जवाब देने में खुशी होगी:

  • क्या 15 अगस्त को आपके स्कूल में कोई विशेष कार्यक्रम आयोजित होता है?
  • आपके स्कूल में कैसे वीर सेनानियों को सम्मानित किया जाता है?
  • आपको अपने देश के वीर सेनानियों के बारे में कौन से ज्ञात हैं?
  • आपके स्कूल में किस प्रकार से देशभक्ति का माहौल संजोता जाता है?
  • आपके परिवार या दोस्तों के साथ आप किस तरह से स्वतंत्रता दिवस मनाते हैं?

ध्यान देने योग्य बातें:

  • आपका उत्तर संक्षेप्त और सार्थक होना चाहिए।
  • अपने उत्तरों को संगठित रखें और सुन्दर भाषा में लिखें।
  • अपने उत्तरों में विवरण और उदाहरण देने से आपके उत्तर में गहराई आएगी।
  • अपने उत्तर में क्रिएटिविटी और अपने विचारों को व्यक्त करने का प्रयास करें।

यानी स्वतंत्रता दिवस के इस अवसर पर आप अपने देश के प्रति अपनी भावनाओं को बयां कर सकते हैं, अपने देश के वीर सेनानियों के बलिदान को समर्थन कर सकते हैं और एक अच्छे नागरिक के रूप में अपना योगदान दे सकते हैं। आप अपने स्कूल में समर्थन शाला का आयोजन करके वीर सेनानियों को सम्मानित कर सकते हैं और देशभक्ति गानों के आयोजन से आपके स्कूल में एक उत्साहपूर्ण वातावरण सृजित होगा।

इस स्वतंत्रता दिवस पर आपको अपने देश के वीर सेनानियों के बलिदान को समर्थन करने का एक अवसर मिलता है। आप उन्हें शुभकामनाएं देकर उनके साहसिक कार्यों को सराह सकते हैं और उनके बलिदान को याद करके उन्हें धन्यवाद दे सकते हैं। इससे आपके दिल में देश के प्रति एक अलग ही अनुभव होगा और आप एक अच्छे नागरिक के रूप में सक्रिय रूप से योगदान देने के लिए प्रेरित होंगे।

स्वतंत्रता दिवस के इस खास अवसर पर आप अपने स्कूल में समर्थन शाला का आयोजन कर सकते हैं और उसमें अपने समूह के साथ मिलकर वीर सेनानियों को सम्मानित कर सकते हैं। आप विभिन्न प्रतियोगिताओं, नाटकों, और भाषणों के माध्यम से वीर सेनानियों के बारे में जानकारी दे सकते हैं। इससे आपके स्कूल में देशभक्ति की भावना उत्पन्न होगी और आपके समूह के सभी सदस्य एक संघर्ष के लिए एकजुट होंगे।

अपने परिवार और दोस्तों के साथ आप स्वतंत्रता दिवस को खास बना सकते हैं। आप इस दिन को गाने गाकर, फिल्में देखकर, और विभिन्न राष्ट्रीय विषयों पर चर्चा करके इसे यादगार बना सकते हैं। आप अपने परिवार के सभी सदस्यों के साथ मिलकर एकजुट होकर देशभक्ति का एहसास कर सकते हैं ।

आपके सवालों के जवाब

भारत की स्वतंत्रता किसने लड़ी थी.

उत्तर: भारत की स्वतंत्रता के लिए महात्मा गांधी, सुभाष चंद्र बोस, जवाहरलाल नेहरू, भगत सिंह, राजगुरु और अन्यों ने समर्थन किया और वीरता से लड़ाई दी थी।

स्वतंत्रता दिवस को क्यों मनाया जाता है?

उत्तर: स्वतंत्रता दिवस 15 अगस्त को मनाया जाता है क्योंकि इस दिन वर्ष 1947 में भारत ने ब्रिटिश शासन से स्वतंत्रता प्राप्त की थी।

स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर देशवासियों को कैसे योजनाएं बनाने के लिए प्रोत्साहित किया जा सकता है?

उत्तर: स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर देशवासियों को समृद्धि के लिए योजनाएं बनाने के लिए उत्साहित किया जा सकता है। सरकार और सामाजिक संगठनों को लोगों को रोजगार, शिक्षा, स्वास्थ्य, और सामाजिक क्षेत्रों में योजनाएं बनाने के लिए प्रोत्साहित करना चाहिए।

स्वतंत्रता के लिए समर्पण करने का महत्व क्या है?

स्वतंत्रता के लिए समर्पण करना भारत के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। हमारे समर्पण और संघर्ष से हम अपने देश को एक महान और सशक्त राष्ट्र बना सकते हैं।

स्वतंत्रता दिवस का महत्व किसे याद दिलाने के लिए ध्वज गिराने का विधान है?

स्वतंत्रता दिवस के दौरान ध्वज गिराने का विधान है ताकि लोग स्वतंत्रता के महत्व को याद रखें और इसे समर्थन करें। यह ध्वज गिराने का विधान लोगों को यह समझाता है कि हमें स्वतंत्रता के अर्थ को समझना और उसे महसूस करना चाहिए।

स्वतंत्रता दिवस हमारे लिए एक गर्व और उत्साह का दिन है। यह दिन हमें अपने देश के प्रति समर्पित होने का अहसास दिलाता है और हमें यह याद दिलाता है कि हमारे पूर्वजों ने किसी महंगी कीमत पर हमें आजाद देश में जन्म देने का संकल्प किया था। हमें इस दिन को याद करके अपने देश के लिए समर्पण करना चाहिए और देश के उन वीर सेनानियों को सम्मानित करना चाहिए जिन्होंने अपने प्राणों की आहुति देकर हमारे देश की स्वतंत्रता को सच्ची बड़ी कीमत पर हासिल किया।

इस विशेष दिन पर हमें अपने देश की संस्कृति, विरासत, और विकास के प्रति गर्व महसूस करना चाहिए। हमें भारतीय संस्कृति को बढ़ावा देना चाहिए और अपने देश के विकास में सक्रिय रूप से शामिल होना चाहिए। हमें यह भी समझना चाहिए कि स्वतंत्रता के साथ जिम्मेदारी भी आती है और हमें अपने देश के प्रति उन्नति के लिए समर्पण करना चाहिए।

आइये, हम सभी मिलकर अपने देश के विकास में योगदान दें और देश की स्वतंत्रता, समृद्धि, और समृद्धि के लिए समर्पित रहें। हमारे पूर्वजों के संघर्षों और बलिदान को समझकर हम एक उच्चतम दृष्टिकोण से अपने देश के उत्थान में सहायता कर सकते हैं। स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं।

15 अगस्त पर निबंध हिंदी में | स्वतंत्रता दिवस पर निबंध

नारियल के दूध के फायदे क्या-क्या हैं? Coconut Milk Benefits

15 अगस्त पर निबंध हिंदी में | स्वतंत्रता दिवस पर निबंध

क्या आप जानते हैं कि आयुर्वेद पाचन विकारों को ठीक कर सकता है?

Tags: 15 august essay Essay in Hindi Independence day in Hindi

hindidunia

Raksha Bandhan 2024 कब है

भगवन श्री हनुमान जी के बारे में रोचक तथ्य हिंदी में

भगवान श्री हनुमान जी के बारे में रोचक तथ्य हिंदी में

Game-of-TRP-Republic-TV-vs-Mumbai-police-hindi-news-explained

TRP का Scam- Republic TV बनाम Mumbai Police

 alt=

यूपी बोर्ड रिजल्ट 2020 | UP Board Result 2020 | upresults.nic.in 10th Results 2020 (Released) Link

Leave a reply cancel reply.

Save my name, email, and website in this browser for the next time I comment.

Notify me of new posts by email.

हिंदीदुनिया भारत की सबसे लोकप्रिय Hindi tech वेबसाइट है। यहाँ पर आप सभी प्रकार के कंप्यूटर कोर्स , और कंप्यूटर से जुडी जानकारिया, Tech News इत्यदि के बारे में  हिंदी में पढ़ सकते है।

  • Privacy Policy

हिन्दीदुनिया

15 august easy essay in hindi

“15 अगस्त” स्वतंत्रता दिवस पर निबंध

15 August – Independence Day essay in Hindi

15 August  – 15 अगस्त हमारे देश के इतिहास में एक महत्वपूर्ण दिन है हम सबकों पता हैं भारत ने 15 अगस्त, 1947 को ब्रिटिश साम्राज्य से स्वतंत्रता हासिल की। जिसे हम स्वतंत्रता दिवस –  Independence Day  के रूप में हर साल  15 अगस्त  को मनाते जाता है इसलिए, यह दिन भारत के नागरिकों के लिए बहुत महत्वपूर्ण है।

स्वतंत्रता दिवस, भारत का प्रमुख राष्ट्रीय पर्व है, जो कि हर भारतीय के लिए बेहद महत्वपूर्ण और खास दिन है। इसी दिन हमारा भारत देश, क्रूर ब्रिटिश शासकों के चंगुल से सालों बाद आजाद हुआ था। वहीं भारत को आजादी दिलवाने के लिए भारत माता के कई महान वीर सपूत और स्वतंत्रता सेनानियों कई सालों तक लड़ाई लड़ी और कठिन संघर्ष किया।

आजादी की इस लड़ाई में भारत के इन शहीदों ने न सिर्फ अपना पूरा जीवन  कुर्बान कर दिया बल्कि कई वीरों ने अपने प्राणों तक की आहुति दे दी। इन वीर जवानों के आत्मसमर्पण, त्याग और बलिदान की वजह से ही आज हम सभी भारतीय आजाद भारत में चैन की सांस ले पा रहे हैं।

वहीं स्वतंत्रता दिवस के दिन इन सभी वीर जवानों को याद करने के लिए और इनके प्रति अपने कृतज्ञता प्रकट करने के साथ-साथ आज की युवा पीढ़ी के अंदर भारत के वीर जवानों के लिए सम्मान का भाव पैदा करने एवं आजादी के महत्व को समझाने के लिए कई स्कूलों में विद्यार्थियों को स्वतंत्रता दिवस / 15 अगस्त पर निबंध ( Independence Day Essay ) लिखने के लिए भी कहा जाता है, इसलिए आज हम आपको अपने इस लेख में अलग-अलग शब्द सीमा पर निबंध उपलब्ध करवा रहे हैं, जिनका इस्तेमाल आप अपनी जरूरत के मुताबिक कर सकते हैं –

Independence Day essay

“15 अगस्त” स्वतंत्रता दिवस पर निबंध – 15 August Independence Day essay in Hindi

स्वतंत्रता दिवस 15 अगस्त को सभी भारतीय स्वतंत्रता दिवस समारोह का जश्न मनाते हैं। हमारा देश, भारत, एक गौरवशाली इतिहास के साथ एक प्राचीन भूमि है। हमारी समृद्ध परंपरा और विभिन्नताओं ने भारत को एक प्रतिष्ठित भूमि बनाया।

बहुत कठिन संघर्ष के बाद भारत को आजादी मिली। 15 अगस्त, 1947 को, हमारे पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू ने पहली बार लाल किले में राष्ट्रीय ध्वज फहराया। यहाँ सभी जाति, धर्म और पंथ के लोग इस दिन को बड़े आनन्द के साथ मनाते हैं।

स्वतंत्रता दिवस पूरे भारत में बहुत खुशी के साथ मनाया जाता है। लोग बैठकें आयोजित करते हैं। तिरंगा फहराते हैं और राष्ट्रगान (जन गण मन) गाया जाता हैं।

भारत की राजधानी दिल्ली में लोग लाल किले के सामने परेड ग्राउंड में बड़ी संख्या में इकट्ठा होते हैं। विदेशी राजदूत और गणमान्य व्यक्ति भी समारोह में हिस्सा लेते हैं। भारत के प्रधानमंत्री ने राष्ट्रीय ध्वज फहराते हैं। 21 बंदूकों की सलामी दी जाती है।

देश की आजादी के लिए जीन स्वतंत्रता सेनानी और भारत के शहीद जवानों ने अपने जीवन का त्याग किया उन्हें श्रद्धांजलि दी जाती है। प्रधानमंत्री के भाषण के बाद, यह कार्य हमारे राष्ट्रीय गान के साथ समाप्त हो जाता हैं।

हर साल हम स्वतंत्रता दिवस की स्वतंत्रता की भावना और श्रद्धा और बलिदान के लिए श्रद्धांजलि के रूप में मनाते हैं।

भारत के स्वतंत्रता दिवस पर, हम सभी महान व्यक्तियों को स्मरण करते हैं जिन्होंने भारत की स्वतंत्रता में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। स्कूल और कॉलेजों में भी स्वतंत्रता दिवस समारोह का आयोजन किया जाता हैं। जहां अध्यापकों और छात्रों द्वारा कई गतिविधियां की जाती हैं।

भारत का स्वतंत्रता दिवस न केवल उत्सव का एक दिन है, यह स्मरण और पूजा का दिन है। हमारे अस्तित्व का, हमारे शहीदों को याद करने का दिन हैं जिन्होंने देश की सेवा में अपना जीवन त्याग दिया। हम सशस्त्र बल के कर्मियों को अपनी आभारी कृतज्ञता देते हैं, जो हमें अपनी खुशी, भलाई और सुरक्षा की कीमत पर गार्ड करते हैं।इस तरह हम स्वतंत्रता दिवस मनाते हैं।

हम दिल से यही दुआ करते हैं की हमारा यह देश ऐसे ही शान से फलता फूलता रहे।

।।“जय हिन्द वंदेमातरम्” ।।

स्वतंत्रता दिवस पर निबंध – Essay On Independence Day in Hindi

प्रस्तावना –

कई सालों तक अंग्रेजों की गुलामी करने और अत्याचारों को सहने के बाद हमारा भारत देश 15 अगस्त, सन् 1947 में ब्रिटिश राज से आजाद हुआ था।

इसलिए इस दिन को भारत में हर साल स्वतंत्रता दिवस के रुप में मनाते हैं और देश के उन वीर सपूतों को याद करते हैं जिन्होंने भारत देश को आजादी दिलवाने के लिए तमाम लड़ाईयां लड़ी और अपना पूरा जीवन कुर्बान कर दिया एवं प्राणों की बाजी लगा दी।

“शहीदों की चिताओं पर लगेंगे हर बरस मेले वतन पे मर मिटनेवालों का बाकी यही निशाँ होगा वीरों के बलिदान को याद करने का दिन”

ब्रिटिश शासकों ने कई सालों तक भारत की जनता पर अमानवीय अत्याचार किए और जुल्म ढाए थे, जिससे भारत की जनता त्रस्त हो गई थी। जिसे देखते हुए भारत के सच्चे वीर सपूत महात्मा गांधी, सुभाषचंद्र बोस, भगत सिंह, चंद्र शेखऱ आजाद, सरदार बल्लभ भाई पटेल , बाल गंगाधर तिलक, तात्या टोपे समेत भारत के कई स्वतंत्रता सेनानियों ने अंग्रेजों के अत्याचारों के खिलाफ न सिर्फ अपनी आवाज उठाई बल्कि अंग्रेजों को भारत से बाहर खदेड़ने और देश को उनके जुल्मों से मुक्त करवाने का दृढ़संकल्प लिया।

भारत को ब्रिटिश राज से आजादी दिलवाने के लिए वीर सपूतों ने अपने क्रांतिकारी विचारों और भाषणों से सभी भारतीयों के मन में आजादी पाने की अलख जगाई और अंग्रेजों के प्रति रोष भरा साथ ही इसके लिए कई सालों तक लड़ाई लड़ी और अपने प्राणों की आहुति तक दे दी।

भारत के महान स्वतंत्रता सेनानी महात्मा गांधी जी ने  सत्य और अहिंसा को अपना सशक्त हथियार बनाकर अंग्रेजों के खिलाफ भारत छोड़ों आंदोलन , नमक सत्याग्रह आंदोलन, दांडी मार्च, सविनय अवज्ञा आंदोलन , खिलाफत आंदोलन , चंपारण और खेड़ा सत्याग्रह समेत कई आंदोलन चलाकर न सिर्फ अंग्रेजों को भारतीयों की अदम्य शक्ति का एहसास दिलवाया बल्कि उन्हें भारत छोड़ने के लिए भी विवश कर भारत की आजादी की लड़ाई में अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया।

वहीं दूसरी तरफ सुभाषचंद्र बोस , भगत सिंह , चन्द्रशेखर आजाद जैसे वीर सपूतों ने अंग्रेजों के खिलाफ कई क्रांतिकारी कदम उठाने का साहस कर अंग्रेजों की नाक पर दम कर अंग्रेजों को भारत से बाहर जाने के लिए मजबूर कर दिया और क्रांति की ज्वाला फैलाकर अपने प्राणों की आहुति दी।

इसके अलावा समय-समय पर तात्या टोपे , मंगल पांडे , रानी लक्ष्मी बाई समेत देश के कई वीर योद्धा अंग्रेजों के खिलाफ संघर्ष करते रहे।

इस दौरान भारत माता के कई स्वतंत्रता सेनानियों को न सिर्फ अंग्रेजों के अत्याचारों और विरोध का सामना करना पड़ा था, जेल की यातनाएं सहनी पड़ी थीं बल्कि अपनी जान तक गंवानी पड़ी थी।

भारत के ये वीर सपूत देश को आजादी दिलवाने के लिए देश के सभी जाति धर्म, संप्रदायों के लोगों को एकजुट कर अंग्रेजों के खिलाफ अपनी आखिरी सांस तक वीरता के साथ लड़ाई करते रहे।

इस तरह इन वीर सपूतों के त्याग, बलिदान और आत्मसमर्पण के चलते 15 अगस्त, 1947 को हमारा भारत देश अंग्रेजों से आजाद हुआ। इसलिए हर साल भारत में हम इस दिन को स्वतंत्रतता दिवस के रुप में मनाते हैं।

15 अगस्त के दिन देशभक्ति से ओतप्रोत होता है वातावरण :

15 अगस्त के दिन हर भारतीय आजादी के जश्न में डूबा रहता है। इसे हर भारतीय बेहद खुशी और उत्साह के साथ मनाता है। इस खास दिन को लेकर कई दिन पहले से ही तैयारियों शुरु होने लगती है।

इस मौके पर स्कूल, कॉलेज समेत सरकारी और निजी संस्थानों में हर जगह ध्वजारोहण होता है और कई रंगारंग और सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है। इस दौरान भाषण प्रतियोगिता, निबंध लेखन प्रतियोगिता आदि का भी आयोजन होता है।

वहीं आजादी के इस पर्व के मौके पर हर साल  भारत के प्रधानमंत्री द्धारा दिल्ली के लाल किले पर झंडा फहराया जाता है और यहां भारतीय सेना की विशाल परेड का आय़ोजन किया जाता है एवं अलग-अलग राज्यों की सुंदर झांकियां प्रदर्शित की जाती है और राष्ट्रगान की धुन के साथ यहां पूरा वातावरण देशभक्ति से सराबोर हो उठता है।

इस दिन देश के हर कोने में आजादी का जश्न मनाया जाता है और इस दिन देश के लिए मर-मिटने वाले शहीदों को भावपूर्ण श्रद्धांजलि अर्पित की जाती है।

भारत में स्वतंत्रता दिवस का हर भारतीय के लिए विशेष महत्व है। इस दिन देश के उन शूर्यवानों की वीरगाथा सुनाई जाती है और उनके प्रति सम्मान और कृतज्ञता प्रकट की जाती है, जिनकी बदौलत आज हम स्वतंत्र भारत में चैन की सांस ले पा रहे हैं। वहीं हम सब भारतीयों को इस दिन हमारी स्वतंत्रता की रक्षा करने का  संकल्प लेना चाहिए।

इसके साथ ही अपने भारत देश को कालाबाजारी, भ्रष्टाचार, जमाखोरी, रिश्वतखोरी आदि से भी आजाद करवाने के लिए शपथ लेना चाहिए और भारत देश की एकता और अखंडता को बनाए रखने की प्रतिज्ञा लेनी चाहिए ताकि हमारा देश निरंतर प्रगति के पथ पर आगे बढ़ सके और पूरी दुनिया के लिए एक आदर्श देश बन सके।

स्वतंत्रता दिवस पर निबंध – Swatantrata Diwas Essay in Hindi

15 अगस्त का दिन हर भारतीय के लिए बेहद खास दिन है, जिसे सभी जाति, धर्म, पंथ, लिंग समुदायआदि के लोग मिलजुल कर बड़े ही धूमधाम और उल्लास के साथ मनाते हैं।

इसी दिन सन् 1947 में कई सालों के बाद ब्रिटिश राज से आजादी मिली थी। इस मौके पर हम देश के लिए मर-मिटने वाले देश के उन वीर सपूतों को याद करते हैं और उनकी वीरगाथा का गुणगान करते हैं और उन्हें श्रद्धापूर्वक श्रंद्दाजली अर्पित करते हैं।

15 अगस्त पर लाल किले पर झंडा रोहण की शुरुआत :

देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू ने  14 अगस्त, 1947, की रात में अपने ऐतिहासिक भाषण ”ट्रिस्ट विद डेस्टिनी” के साथ देश को ब्रिटिश शासन से आजादी मिलने की घोषणा की थी।

और दिल्ली के लाल किले पर झंडा फहराया था, तभी  से हर स्वतंत्रता दिवस पर देश के प्रधानमंत्री द्धारा लाल किले पर झंडा फहराया जाता है और इस मौके पर कई कार्यक्रमों का भी आयोजन किया जाता है।

स्वतंत्रता दिवस का महत्व – Importance of Independence Day

भारत में स्वतंत्रता दिवस का हर भारतीय के लिए बेहद खास महत्व है। इस राष्ट्रीय पर्व का हर भारतीय को बेसब्री से इंतजार रहता है। सभी लोग मिलजुल कर इस पर्व को हर्षोल्लास और धूमधाम के साथ मनाते हैं।

स्वतंत्रता दिवस के इस पर्व के दिन देश के लिए कुर्बानी देने वाले वीर जवानों को याद किया जाता है एवं देश के लिए अपनी जान गंवाने वाले शहीदों को भावपूर्व श्रद्दांजली अर्पित करते हैं।

स्वतंत्रता दिवस के मौके पर आज की युवा पीढ़ी को स्वतंत्रता के महत्व को बताया जाता है साथ ही वीर सपूतों के त्याग और बलिदान की शौर्यगाथा भी सुनाई जाती है, ताकि उनके मन में राष्ट्र के प्रति प्रेम और अपने स्वतंत्रता सेनानियों के लिए सम्मान की भावना जागृत हो सके।

स्वतंत्रता दिवस, हम सभी भारतीयों के लिए बेहद खास इसलिए भी है क्योंकि इस पर्व  के बहाने हम सभी को एक साथ मिलजुल कर रहने और अपनी स्वतंत्रता के महत्व को समझने में मद्द मिलती है।

यह राष्ट्रीय उत्सव देश की आजादी के लिए लड़ी गईं लड़ाईयों और इसके संघर्ष के इतिहास को जिंदा रखता है एवं इसके सही मूल्यों को लोगों को समझाता है। इस मौके पर कई तरह के रंगारंग कार्यक्रम होते हैं साथ ही कई इलाकों में आसमान में लोग रंग बिरंगी पतंगे उड़ाकर आजादी का जश्न मनाते हैं।

शहीदों को किया जाता है नमन :

भारत को ब्रिटिश शासन से आजादी दिलवाने के लिए हमारे देश के कई वीर जवानों में अपना लहु बहाया था और अपने प्राणों की आहुति दी थी। तब जाकर कई सालों के बाद हमारा भारत देश अंग्रेजों के चंगुल से 15 अगस्त, 1947 को आजाद हो सका था।

वहीं इस दिन देश के लिए मर-मिटने वाले उन शहीदों को याद कर आज हर भारतीय की आंखें नम हो जाती हैं।इसलिए सभी भारतीय इस पर्व के दिन शहीदों को सच्चे मन से याद कर उन्हें श्रद्धांजली अर्पित करते हैं।

स्वतंत्रता दिवस पर सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन :

राष्ट्रीयता के इस पर्व 15 अगस्त के मौके पर दिल्ली के लाल किले में भारत के प्रधानमंत्री द्धारा झंडा फहराया जाता है। इस मौके पर देश के प्रधानमंत्री लाल किले से हर साल देश की जनता को संबोधित करते हैं और देश की एकता और अखंडता को बनाए रखने एवं देश को प्रगति के पथ पर आगे बढ़ाने के लिए शपथ लेते हैं।

इस मौके पर भारत की जल, थल और वायु सेना अपनी ताकत और शक्ति का प्रदर्शन करते हैं। इसके साथ ही इस पर्व के मौके पर भारत के तिरंगा झंडा को 21 तोपों की सालमी दी जाती है और हेलीकॉप्टर के साथ फूल बरसा कर तिरंगा का सम्मान किया जाता है।   आजादी के इस पर्व के मौके पर लाल किले पर कई सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है।

जिसमें बड़ी संख्या में लोग शिरकत करते हैं। इस मौके पर देश के सभी राज्य अपनी-अपनी लोकसंस्कृति, सभ्यता और परंपरा को खूबसूरत झांकियों के द्धारा प्रर्दशित करते हैं। वहीं इस दौरान भारत के प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति समेत देश के सर्वोच्च पदों पर बैठे सभी राजनेता देश के वीर सपूतों के बलिदान को याद करते हैं और उन्हें श्रद्धासुमन अर्पित करते हैं। इस दिन पूरा वातावरण देशभक्ति से ओतप्रोत होता है।

इसके अलावा स्वतंत्रता दिवस के दिन भारत सरकार ने राष्ट्रीय अवकाश भी घोषित किया गया है। इस दिन स्कूल, कॉलेज समेत तमाम शिक्षण संस्थान और सरकारी कार्यालय बंद रहते हैं।

राष्ट्रीयता के इस पर्व को सभी भारतवासी अपने-अपने तरीके से मनाते हैं। इस दिन हर कोई देशभक्ति में डूबा रहता है।

वहीं इस मौके पर स्कूल-कॉलेजों और सरकारी दफ्तरों, राजनीतिक कार्यालय  में तिरंगा झंडा फहराया जाता है और  देशभक्ति से जुड़े कई सांस्कृतिक और रंगारंग कार्यक्रम, नुक्कड़ नाटक, निबंध लेखन, भाषण प्रतियोगिताओं का भी आयोजन होता है।

इसके साथ ही इस दिन  देश के लिए मर मिटने वाले भारत के महान क्रांतिकारियों और वीर सपूतों को याद किया जाता है और उन्हें सच्चे मन से श्रद्दासुमन अर्पित किए जाते हैं।

इसके अलावा इस दिन टेलीविजन पर भी देशभक्ति पर बनी कई फिल्में और कार्यक्रम प्रसारित किए जाते हैं, जिसे देखकर लोग आजादी का जश्न मनाते हैं।

स्वतंत्रता दिवस के इस राष्ट्रीय पर्व पर सभी भारतवासी मिलकर आजादी का जश्न मनाते हैं और अपने देश की एकता और अखंडता  को बनाए रखने एवं देश को प्रगति के पथ पर आगे बढ़ाने के संकल्प लेते हैं।

“आजाद भारत के लाल हैं हम आज शहीदों को सलाम करते हैं युवा देश की शान हैं हम अखंड भारत का संकल्प करते हैं।।”

अगले पेज पर और भी …

3 thoughts on ““15 अगस्त” स्वतंत्रता दिवस पर निबंध”

' src=

This Article is Very helpful for all people and who write an Essay such as children. Thank you very much.

' src=

really helpfull article …write more plzz

' src=

very nice it helped me in my essay writing

Leave a Comment Cancel Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Save my name, email, and website in this browser for the next time I comment.

Gyan ki anmol dhara

Grow with confidence...

  • Computer Courses
  • Programming
  • Competitive
  • AI proficiency
  • Blog English
  • Calculators
  • Work With Us
  • Hire From GyaniPandit

Other Links

  • Terms & Conditions
  • Privacy Policy
  • Refund Policy

NVSHQ Hindi

NVSHQ Hindi

सरकारी योजनाओं की पूरी जानकारी

स्वतंत्रता दिवस पर निबंध: 15 अगस्त पर निबंध – 15 August Essay in Hindi 10 lines

15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस पर निबंध: 15 अगस्त हमारे देश का एक राष्ट्रीय पर्व है, जिसे हम स्वतंत्रता दिवस के रूप में हर वर्ष बड़ी ही धूम-धाम से हर्ष और उल्लास के साथ मनाते है। इस दिन 15 अगस्त 1947 में हमारा देश 200 वर्षों बाद अंग्रेजी हुकूमत की गुलामी से पूरी तरह आजाद हो ... Read more

Photo of author

Reported by Dhruv Gotra

Published on 20 April 2024

15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस पर निबंध : 15 अगस्त हमारे देश का एक राष्ट्रीय पर्व है, जिसे हम स्वतंत्रता दिवस के रूप में हर वर्ष बड़ी ही धूम-धाम से हर्ष और उल्लास के साथ मनाते है। इस दिन 15 अगस्त 1947 में हमारा देश 200 वर्षों बाद अंग्रेजी हुकूमत की गुलामी से पूरी तरह आजाद हो गया था। जिसके आजाद होने के पीछे हमारे देश के बहुत से स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के योगदान की अहम भूमिका है जिन्होंने अपने प्राणों को परवाह किये बिना देश की आजादी के लिए खुद को इस न्योछावर कर दिया, ऐसे सभी स्वतंत्रता सेनानियों की इस निस्वार्थ देशभक्ति को याद करें उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित कर हम सभी देशवासियों द्वारा हर वर्ष देश की आजादी के दिन को याद करके बड़े ही सम्मान के साथ अपने राष्ट्रीय ध्वज को विद्यालयों, कालेजों, बैंक व कार्यालयों में फहराया जाता है।

स्वतंत्रता दिवस पर निबंध | 15 अगस्त पर निबंध हिंदी में कैसे लिखें - 15 august essay in hindi 10 lines

इसके साथ ही इस दिन विद्यालयों में बच्चों की निबंध, पोस्टर मेकिंग व भाषण प्रतियोगिता आयोजित करवा कर उन्हें बढ़-चढ़कर भाग लेने के लिए भी प्रेरित किया जाता है।

स्वतंत्रता दिवस (15 अगस्त) पर निबंध

15 अगस्त 1947 को हमारा देश ब्रिटिश शासन से मुक्त होकर एक स्वतंत्र राष्ट्र बना था। 14 और 15 की मध्य रात्रि को कई विद्रोह के बाद भारत को स्वतंत्रता प्राप्त हुयी थी। हमें स्वतंत्र हुए आज पूरे 76 वर्ष हो गए हैं।

हमारा भारत 200 वर्ष तक अंग्रेजों के अधीन था जिसके बाद हमारे देश में आजादी के लिए काफी लड़ाई लड़ी गयी। जिसमें बहुत से महापुरुषों ने अपना बलिदान दिया और भारत को एक स्वतंत्र देश बनाया। इस वर्ष हम स्वतंत्रता दिवस की 76वीं वर्षगांठ मना रहें है।

WhatsApp

स्वतंत्रता दिवस के उपलक्ष्य में पूरा देश हर वर्ष पूरे हर्ष और उल्लास के साथ इस दिन को राष्ट्रीय त्यौहार के रूप में मनाते है। और स्कूल, कॉलेज और भारत के सभी संस्थानों में तिरंगा फहराया जाता है। और इस दिन बच्चे सांस्कृतिक कार्यक्रमों में भाग लेते है और हास्य, नाटक, भाषण, नृत्य, जैसे कार्यक्रम आयोजित करते हैं।

स्वतंत्रता-दिवस-पर-निबंध

होली पर निबंध | Holi Essay in Hindi

15 अगस्त पर निबंध -1 (Swatantrata Diwas Par Nibandh)

इस दिन देश के प्रधानमंत्री जी भारत की राजधानी दिल्ली के लाल किला पर झंडा फहराते है और उसके बाद राष्ट्र गान गाया जाता है और साथ ही 21 तोपों की सलामी भी दी जाती है।

उसके उपरान्त प्रधानमंत्री जी लाल किले से पूरे देश को सम्बोधित करते है और स्वतंत्रता दिवस के उपलक्ष्य में वहां और भी बहुत से लोग और बच्चे उपस्थित होते है। स्वतंत्रता दिवस के दिन हमारे सैनिक और एनसीसी कैडेट परेड करते है। परेड, और विभिन्न राज्यों की झाँकियाँ निकाली जाती है तथा बच्चों द्वारा रंगारंग कार्यक्रम प्रस्तुत किये जाते हैं। प्रधानमंत्री जी के द्वारा दिया गया भाषण तथा लाल किले पर किये जाने वाले सभी कार्यक्रम लाइव (LIVE) प्रसारण किया जाता है। इस भाषण को पूरा देश अपने रेडियो और टेलीविजन के माध्यम से सुनता है।

भारत को आजादी दिलाने में कुछ महापुरुषों ने अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है उन्होंने अपनी जान गंवा कर हमें एक स्वतंत्र राष्ट्र प्रदान किया है। इनमें से कुछ महापुरुषों के नाम इस तरह है- भगत सिंह, रानी लक्ष्मी बाई, चंद्र शेखर आजाद, सुभाष चंद्र बोस, मंगल पाण्डे, राज गुरु, सुख देव, महात्मा गाँधी।

इस दिन महापुरुषों की कुर्बानियों को याद किया जाता है। और उन्हें भावपूर्ण श्रद्धांजलि दी जाती है। आज के दिन स्कूलों में छात्र-छात्राओं में मिष्ठान का वितरण किया जाता है। सारे सरकारी दफ्तर में झंडा फहराया जाता है। इस दिन भारत के सभी सरकारी कार्यालय का अवकाश रहता है। स्वतंत्रता दिवस को सभी राज्य के मुख्यमंत्री अपने राज्य में ध्वजारोहण करते है।

Essay on Independence Day in Hindi – 15 अगस्त पर निबंध

15 अगस्त को ध्वजारोहण, परेड और सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ राष्ट्रीय त्यौहार के रूप में मनाया जाता है। स्कूल, कॉलेज, कार्यालय, समाज परिसर, सरकारी और निजी संगठन के माध्यम से 15 अगस्त के शुभ अवसर पर समारोह आयोजित किया जाता है।

इस दिन को भारत के सभी नागरिकों के द्वारा बहुत उत्साह के साथ स्वतंत्रता दिवस को मनाया जाता है भारत के प्रधानमंत्री जी के द्वारा लाल किला दिल्ली में इस दिन, झंडा फहराया जाता हैं और भाषण द्वारा राष्ट्र को संबोधित करते हैं। 

दूरदर्शन पूरे कार्यक्रम का टेलीविजन पर सीधा प्रसारण करता है। 15 अगस्त 1947 को प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू ने पहला झंडा रोहण समारोह किया था। भारत या विदेश में रहने वाले प्रत्येक भारतीय नागरिक के दिल में इस दिन का बहुत महत्व है। क्योंकि वर्षों के संघर्ष के बाद भारत को 15 अगस्त को आजादी जो मिली, इस दिन भारतीय नागरिकों को अंग्रेजों से पूर्ण स्वतंत्रता मिली और पूर्ण स्वायत्तता प्राप्त हुई।

यह दिन हमें स्वतंत्रता सेनानियों के संघर्षों और स्वतंत्रता प्राप्त करने में उनके द्वारा बलिदान किए गए जीवन की भी याद दिलाता है। हमारे वीरों ने जिस दर्द से वह मुश्किल समय व्यतीत किया है, वह हमें याद दिलाता है कि आज हम जिस आज़ादी का आनंद ले रहे हैं, वह लाखों लोगों का खून बहाकर हासिल की है।

यह भारत के प्रत्येक नागरिक के अंदर देशभक्ति की भावना को भी जगाता है। यह वर्तमान पीढ़ी को उस समय के लोगों के संघर्षों को करीब से समझती है और उन्हें भारत के स्वतंत्रता सेनानियों से परिचित कराती है।

स्वतंत्रता दिवस का महत्व

15 अगस्त (स्वतंत्रता दिवस) लोगों में देशभक्ति की भावना पैदा करता है। यह लोगों को एकजुट करता है और उन्हें यह महसूस कराता है कि हम एक राष्ट्र हैं जहां कई अलग-अलग भाषाएं, धर्म और सांस्कृतिक मूल्य हैं। अनेकता में एकता भारत का प्रमुख सार तत्व और शक्ति है। 

हम दुनिया के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश का हिस्सा होने पर गर्व महसूस करते हैं, जहां सत्ता आम आदमी के हाथ में है। हर साल 15 अगस्त को हम उस दिन को मनाते हैं जब हम एक स्वतंत्र राष्ट्र बन गए, जिसका अर्थ है कि हम खुद पर शासन करने के लिए स्वतंत्र थे और किसी और के द्वारा शासित नहीं थे।

मैं हिन्दू हूँ, तू मुस्लिम है, है दोनों इंसान, ला मैं तेरी गीता पढ़ लूँ, तू पढ़ ले कुरान, इस स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर, है मेरा बस एक ही अरमान, एक थाली में खाना खाये सारा हिन्दुस्तान!!

जय हिन्द !……. जय भारत !…..

Independence Day History

अंग्रेजों ने भारत में लगभग 200 वर्षों तक शासन किया है। ब्रिटिश शासन के तहत, लोगों का जीवन दयनीय था। भारतीयों के साथ गुलाम जैसा व्यवहार किया जाता था और उन्हें उनसे कुछ भी कहने का कोई अधिकार नहीं था। 

भारतीय शासक ब्रिटिश अधिकारियों के हाथों की कठपुतली मात्र थे। ब्रिटिश शिविरों में भारतीय सैनिकों के साथ अमानवीय व्यवहार किया जाता था और किसान भूख से मर रहे थे क्योंकि वे फसल नहीं उगा सकते थे और उन्हें भारी भूमि कर देना पड़ता था।

आजादी से पहले अंग्रेजों के द्वारा भारतीय नागरिकों को पर कई अत्याचार किये गए। उन्हें अपना जीवन व्यतीत करने के लिए किसी भी प्रकार की स्वतंत्रता प्राप्त नहीं थी। हमारे स्वतंत्रता सेनानियों के द्वारा भारत को आजादी दिलाने के लिए कई संघर्षों का सामना करना पड़ा था।

भारत के प्रसिद्ध नेताओं एवं स्वतंत्रता सेनानियों के द्वारा आजादी के लिए अंग्रेजों से लड़ाई लड़ी गयी जिसमें मुख्य रूप से महात्मा गाँधी, भगत सिंह, सरदार वल्लभ भाई पटेल, सुभाष चंद्र बोस, जवाहर लाल नेहरू, दादा भाई नौरोजी, रानी लक्ष्मी बाई, मंगल पांडे, आदि महान व्यक्तियों के द्वारा आजादी की लड़ाई लड़ी गयी थी। इन महान व्यक्तियों के द्वारा देश को आजादी दिलाने के लिए अपने प्राणों का भी बलिदान दिया गया था।

लड़े वो वीर जवानों की तरह , ठंडा खून फौलाद हुआ , मरते मरते भी मार गिराएं , तभी तो देश आजाद हुआ।

1619 में सूरत के उत्तर पश्चिमी तट में अंग्रेजों के माध्यम से भारतीय उप महाद्वीप में अपना प्रथम चौकी की स्थापना की गयी बॉम्बे ,मद्रास और कोलकाता में ईस्ट इण्डिया कम्पनी के तहत तीन स्थायी व्यापारिक स्टेशन की स्थापना की गयी।

19वीं सदी के मध्य में ब्रिटिश शासन के द्वारा इन मुख्य क्षेत्रों में अपने प्रभाव के विस्तार को प्रचलित किया गया। इसके साथ ही भारत पाकिस्तान और बांग्लादेश के अधिकतर भागों में भी अंग्रेजों का शासन चलता था।

ब्रिटिश शासन के अंतर्गत स्थानीय राजाओं के साथ समझौता करके भारत के विभिन्न भागों को नियंत्रित करने का कार्य शुरू किया गया। विद्रोही भारतीय सैनिकों के द्वारा सन 1857 में उत्तरी भारत में एक विद्रोह अंग्रेजों की सरकार East India Company से क्राउन हेतु सभी राजनीतिक अधिकार को ट्रांसफर करने का मार्गदर्शन किया गया।

यह भी देखें;- दिवाली पर निबंध (Diwali Essay)

स्वतंत्रता दिवस – भारत के कुछ ऐतिहासिक पल

भारत के कुछ ऐतिहासिक पल जैसे कि- अंग्रेजों का भारत आना , भारत देश एक गुलाम के तौर पर , राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी की स्थापना , साम्प्रदायिक दंगे और भारत का बँटवारा , स्वतंत्र भारत और आजादी का त्यौहार , आदि

अंग्रेजों का भारत आना

  • अंग्रेजों का आगमन भारत में 17वीं शताब्दी में हुआ था। वे भारत में व्यापार करने के उद्देश्य से आये थे। उनका मुख्य उद्देश्य भारत में अपना व्यापार स्थापित करना था। धीरे-धीरे उन्हें भारत में अपना व्यापार स्थापित पूर्ण रूप से स्थापित कर लिया और बहुत से भारतीय राजाओं को युद्ध में पराजित करके उन्होंने उनके सभी इलाकों पर अपना शासन स्थापित किया। 18वीं सदी तक ब्रिटिशो ने अपनी ईस्ट इंडिया कम्पनी को पूर्ण रूप से जमा लिया था।

भारत देश एक गुलाम के तौर पर

  • अब सभी भारतीयों को पूर्ण रूप से पता लग चूका था कि वे सभी गुलाम बन चुके है। ब्रिटिशों द्वारा भारतीयों को अंग्रेजी सिखाने व अन्य तौर तरीके सीखने के लिए उनसे कुछ भी करा लेते थे जो भारतीयों को समझ नहीं आता था, उन्हें लगता था वो हमें अंग्रेजी और अन्य तौर तरीके सिखाने में हमारे मदद कर रहें है। लेकिन ऐसा करते-करते ब्रिटिश भारतीयों पर शासन करने लगे। ब्रिटिशों ने भारतीयों को न केवल शारीरिक बल्कि उन्हें मानसिक रूप से भी परेशान किया। इसी के बाद बहुत से युद्ध भी हुए।

राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी की स्थापना

  • देश में जब युद्ध जैसी स्थिति बनी हुई थी उसी समय 64 सदस्यों के साथ दिसम्बर वर्ष 1885 को राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी की स्थापना की गयी। इस पार्टी में देश के सभी लोग बढ़ चढ़कर शामिल होने लगे। राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी में मुख्य भूमिका दादा भाई नौरोजी और ए ओ ह्यूम ने निभाई। बहुत सी क्रांतिकारी गतिविधियां की जाने लगी। इसके बाद भारतीय मुस्लिम लीग व अन्य कई राष्ट्रीय दलों की स्थापना की गई।

साम्प्रदायिक दंगे और भारत का बँटवारा

  • जलियाँवाला बाग़ हत्याकांड के बाद ब्रिटिशों ने साम्प्रदायिक दंगों की राजनीति तेज कर दी। उसके बाद कोहाट में वर्ष 1924 में भयानक हिन्दू-मुस्लिम दंगे हुए। अगस्त वर्ष 1947 में ब्रिटिशों ने भारत छोड़ा और उसके बाद भारत का बँटवारा हुआ। इसके बाद 14 अगस्त को बंटवारे के बाद पाकिस्तान बना और उसके बाद भयंकर साम्प्रदायिक दंगे हुए। आजाद होने के बाद भी भारत में एक अलग ही हिंसक दंगों की ज्वाला भड़की। जहाँ भारतीयों को देश के आजाद होने की ख़ुशी थी वही इन साम्प्रदायिक दंगों ने भारतीयों की ख़ुशी को कम कर दिया था और साथ ही देश का बंटवारे होने का दुःख भी था।

स्वतंत्र भारत और आजादी का त्यौहार

हमें यह स्वतंत्रता इतनी आसानी से नहीं मिली है, इस आजादी को पाने के लिए हमारे देश के कई महान क्रांतिकारियों ने बलिदान दिए है, किसी ने फांसी खाई है तो किसी ने मरते दम तक अपनी जान आजादी प्राप्त करने के लिए न्यौछावर की है।

अंग्रेजों के भारत छोड़कर जाने के बाद 15 अगस्त 1947 को भारत देश पूर्ण रूप से आजाद हुआ। और इसी लिए हर साल 15 अगस्त को भारत देश के स्वतंत्र होने की ख़ुशी में स्वतंत्रता दिवस मनाया जाता है। यह भारतीयों का राष्ट्रीय पर्व भी कहलाता है।

देश के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू बने और उनके द्वारा ही देश के आजाद होने की ख़ुशी में दिल्ली के लाल किले पर आजादी के बाद पहली बार झंडा फहराया गया। और देश को सम्बोधित भी किया गया। इसी प्रकार हर साल दिल्ली के लाल किले पर हर साल देश के प्रधानमंत्री द्वारा झंडा फहराया जाता है और राष्ट्र गान गया जाता है और देश के प्रधानमंत्री द्वारा देश को सम्बोधित भी किया जाता है।

निष्कर्ष

15 अगस्त (स्वतंत्रता दिवस) को हम उन सभी वीर क्रांतिकारियों को याद करते है जो देश की आजादी पाने के लिए लड़ते-लड़ते शहीद हुए, जिन्होंने देश को आजाद कराने के लिए ब्रिटिशों के अत्याचार सहे। इस दिन हमें उन सभी वीरों को याद करते है और उनके बलिदान को ध्यान में रखते हुए उन्हें श्रद्धांजलि देते है। सभी भारतीयों को मिल-जल कर प्रेम भाव से रहना चाहिए।

15 अगस्त पर निबंध हिंदी में – 2 (15 August Par Nibandh)

स्वतंत्रता दिवस हमारे भारत के राष्ट्रीय त्योहारों में से एक है, इस दिन राष्ट्रीय स्तर पर स्वतंत्रता समारोहों का आयोजन राजधानी दिल्ली में किया जाता है, इस दिन दिल्ली में प्रधानमंत्री जी द्वारा लाल किले पर राष्ट्रीय ध्वज फहराया जाता है, जिसे देखने के लिए लाखों की संख्या में लोग एकत्रित होकर अपने-अपने हाथों में तिरंगे को फहराते हैं

और राष्ट्रीय गान गाने के साथ सैनिक द्वारा बाजों की स्वर-लहरी कर समारोह में 21 तोपों की सलामी दी जाती है और सशस्त्र बलों द्वारा परेड भी निकाली जाती है, जिसमें प्रधानमंत्री जी द्वारा जनता को सम्बोधित कर एकजुट हो कर राष्ट्रीय की स्वतंत्रता को बरकरार रखने के लिए भाषण देकर प्रेरित किया जाता है। इस दिन देश को ब्रिटिश हुकूमत से आजाद करवाने वाले सभी वीरों व वीरांगनाओं के योगदान को स्मरण कर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की जाती है,

जिसका पूरा प्रसारण समाचार पत्रों के माध्यम से किया जाता है। साथ ही स्वतंत्रता दिवस को देश की सुख, शान्तिः व समृद्धि के प्रतीक के रूप में सभी राज्यों में जश्न के साथ नाच-गाने गाकर नागरिक एक दूसरे को स्वतंत्रता दिवस की बधाई देते हैं और झंडे को फहराकर व तिरंगे की पतंगे उढ़ाकर धूम-धाम से इस दिन को मनाते है।

देश की आजादी में स्वतंत्रता सेनानियों का योगदान

हमारे देश की आजादी के लिए स्वतंत्रता सेनानियों के कड़े संघर्ष के बाद 15 अगस्त 1947 की मध्यरात्रि में पंडित जवाहर लाल नेहरू जी द्वारा लाल किले में देश के पूरी तरह से आजाद होने की घोषणा की गई, जिसके बाद हमारा देश पूरी तरह से स्वतंत्र हो गया,

ब्रिटिश सरकार द्वारा इस दिन को हमारे देश के स्वतंत्रता दिवस के रूप में चुने जाने का एक मुख्य कारण यह भी माना जाता है, की इसी दिन वर्ल्ड वार 2 में हुए युद्ध को पूरी तरह से खत्म कर जापान द्वारा समर्पण कर लिया गया, जिसे अंग्रेजी सरकार अपने जीत के रूप में स्मरण करने के लिए, उनके द्वारा इस दिन को हमारी आजादी के दिवस के रूप में चुना गया, जिसके आजाद होने के पीछे 1857 के विद्रोह में हमारे देश के बहुत से स्वतंत्रता सेनानियों जैसे रानी लक्ष्मी बाई, तात्या टोपे, भगत सिंह, राजगुरु, सुखदेव, रामप्रसाद बिस्मिल आदि

महान क्रांतिकारियों के बाद महात्मा गाँधी, सुभाष चंद्र बोष, चंद्र शेखर आजाद, लाला लाजपत राय आदि द्वारा किए गए संघर्ष व उनके बलिदानों द्वारा ही हमारा देश पूरी तरह से आजाद होकर एक स्वतंत्र देश बनाया जा सका। देश के पूरी तरह स्वतंत्र हो जाने के बाद से ही इस दिन को हर वर्ष हमारे देश में आजादी के दिन के रूप में मनाया जाता है।

इस वर्ष भी 15 अगस्त 2024 को हमारे के 77 वें स्वतंत्रता दिवस के रूप में मनाया जाएगा, इसके लिए हर वर्ष आयोजित किए जाने वाले कार्यक्रम में राज्यों के मुख्यमंत्रियों, राज्यपालों के अलावा मुख्य अतिथि को भी आमंत्रित किया जाता है,

स्वतंत्रता दिवस के नाम कुछ पंक्तिया

अंत में अपने देश की आजादी में योगदान देने वाले उन सभी स्वतंत्रता सेनानियों की याद में बिस्मिल साहब की पंक्तियाँ कुछ इस प्रकार है।

सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है, देखना है जोर कितना बाजुए कातिल में है।

बिस्मिल साहब की इन पंक्तियों की शक्ति देखिये की ये सदियों के गुलाम भारतीयों के हृदय में स्वतंत्रता की लहर दौड़ा बैठीं, शायद ये इन जैसी कई कविताओं का जादू था या आजाद हिन्द में साँस लेने की तड़प, आजादी की आग इस देश को आजाद बना बैठी,

कितना साहस था उन शहीदों में जो अपनी जान की बाजी लगा कर हमें आजाद कर गए, आज 76 साल बाद भी ये ना हम जान पाए और ना आप, बस रह गई उनकी वीरता की कहानियाँ जो आज भी रूह कंपा देती है, मरी हुई देश भक्ति जगा देती हैं, स्वतंत्रता की अहमियत बता देती है।

स्वतंत्रता संग्राम से संबंधित महत्वपूर्ण तथ्य :-

  • दक्षिण कोरिया
  • बहरीन
  • कांगो
  • दोस्तों क्या आपको पता है जब हमारा देश 15 अगस्त 1947 को आज़ाद हुआ तब तक हमारे देश का कोई भी राष्ट्र गान नहीं था। आपको यह जानकर हैरानी होगी रविंद्रनाथ टैगोर हमारे देश का राष्ट्रगान “जन गण मन” 1911 में ही लिख चुके थे परन्तु देश की संसद के द्वारा 1950 में जन गण मन को राष्ट्र गान के रूप में स्वीकार किया गया।
  • क्या आपको पता है की देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू जी के द्वारा दिया गया ऐतिहासिक भाषण “Tryst with Destiny” 14 अगस्त की मध्य रात्रि को उस समय के वायसराय लॉज (अब राष्ट्रपति भवन) में दिया गया था। उस समय तक नेहरू जी देश के प्रधानमंत्री नहीं बने थे।
  • वैसे तो हर वर्ष 15 अगस्त को लाल किले पर झंडा फहराया जाता है और लाल किले की प्राचीर (Barbican) से प्रधानमंत्री के द्वारा भाषण दिया जाता है। पर 15 अगस्त 1947 को ऐसा नहीं हुआ था उस समय झंडा 16 अगस्त 1947 को फहराया गया था।
  • देश की स्वतंत्रता के समय देश के अंतिम वायसराय का नाम था “ लार्ड माउंटबेटेन “। जिन्होंने देश की स्वतंत्रता के समय पंडित नेहरू के साथ आज़ादी के दस्तावेजों पर हस्ताक्षर किये थे।
  • देश की स्वतंत्रता में हमारे देश के वीरों द्वारा दिए गए योगदान को हमें सदैव स्मरण करते रहना चाहिए और उन्हीं के नक़्शे क़दमों पर चलकर हमें हमारे देश की सम्प्रभुता व स्वतंत्रता की रक्षा करते हुए देश के एक जिम्मेदार नागरिक की तरह अपने देश की सेवा में योगदान देना चाहिए।

15 अगस्त पर निबंध 10 lines

  • स्वतंत्रता दिवस भारत के राष्ट्रीय त्योहारों में से एक है।
  • यह दिन प्रत्येक भारतीय के लिए गौरव का दिन है।
  • आज ही के दिन 15 अगस्त 1947 में भारत देश अंग्रेजों की गुलामी से आजाद हुआ था।
  • 15 अगस्त के दिन प्रधानमंत्री पहले शहीदों के स्मारक पर जाते हैं।
  • हर वर्ष स्वतंत्रता दिवस के आयोजन के मुख्य अतिथि किसी अन्य देश से बुलाए जाते हैं।
  • इसके बाद वे लाल किले पर ध्वजारोहण करते हैं और फिर देश वासियों को सम्बोधित करते हैं।
  • देश की आजादी के लिए कई महान स्वतंत्रता सेनानियों ने अपने प्राणों का बलिदान दिया है।
  • इस दिन मौके पर लाल किले पर परेड का आयोजन किया जाता है।
  • 15 अगस्त के दिन स्कूलों में झांकियां निकली जाती हैं।
  • इस दिन जय हिन्द, वंदेमातरम्, भारत माता की जय, इंकलाब जिंदाबाद के नारों से पूरा देश गूंज उठता है।

15 अगस्त पर निबंध – 15 august par bhashan

15 अगस्त 2024 को हमारे देश के कौन से स्वतंत्रता दिवस के रूप में मनाया जाएगा.

इस वर्ष हम 15 अगस्त 202 में हमारे देश की आजादी के 77 वें स्वतंत्रता दिवस के रूप में मनाएंगे।

इस दिन को हम स्वतंत्रता दिवस के रूप में क्यों मानते हैं ?

इस दिन 15 अगस्त 1947 को हमारे देश से अंग्रेजी शासन हट जाने के बाद, हमारा देश पूरी तरह अंग्रेजों की गुलामी से आजाद हो गया था, जिसमें देश के बहुत से वीरों के बलिदान के योगदान से ही हमें यह स्वतंत्रता प्राप्त हो सकी, इनके इसी योगदान को स्मरण कर हम इस दिन को देश की आजादी के तौर पर याद रखने के लिए स्वतंत्रता दिवस के रूप में हर वर्ष मानते हैं।

स्वतंत्रता दिवस के दिन क्या-क्या कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं ?

स्वतंत्रता दिवस के दिन देश भर में नागरिक इस दिन को एक त्यौहार की तरह ख़ुशी और उल्लास से मनाते हैं, और इस दिन लाल किले में प्रधानमंत्री जी द्वारा देश का तिरंगा फहराया जाता है और राष्ट्रीय गान गया जाता है, साथ ही विद्यालयों में भी तिरंगा फहराकर भाषण व पोस्टर प्रतियोगिताओं का कार्यक्रम भी धूम-धाम से आयोजित किया जाता है।

इस वर्ष स्वतंत्रता दिवस पर किन्हें अतिथि के रूप में आमंत्रित किया जाएगा ?

इस वर्ष स्वतंत्रता दिवस पर हमारे देश के उन सभी खिलाडियों को आमंत्रित किया जाएगा, जिन्होंने इस वर्ष ओलंपिक खेलों में हमारे देश का प्रतिनिधित्व किया है।

15 अगस्त के शुभ अवसर पर झांकियां कहाँ से निकाली जाती है ?

स्कूल के माध्यम से 15 अगस्त के शुभ अवसर पर झाँकियाँ निकाली जाती है।

Photo of author

Dhruv Gotra

Leave a Comment Cancel reply

अभी-अभी.

डेली करेंट अफेयर्स 2023 (Daily Current Affairs 2023): Today Current Affairs 2023 in Hindi

करेंट अफेयर्स

डेली करंट अफेयर्स 2024 (daily current affairs 2024): today current affairs in hindi.

क्या हैं घर में शिवलिंग रख सकते हैं? क्या है नियम

धर्म-कर्म

क्या हैं घर में शिवलिंग रख सकते हैं क्या है नियम.

सबसे पहले दर्शन किस धाम के करने चाहिए? चार धाम यात्रा के बारे में जान लें क्या है यात्रा का सही क्रम

न्यूज

सबसे पहले दर्शन किस धाम के करने चाहिए चार धाम यात्रा 2024 के बारे में जान लें क्या है यात्रा का सही क्रम.

गन्ने का जूस सेहत के लिए कितना फायदेमंद है? कब पीना चाहिए गन्ने का जूस

गन्ने का जूस सेहत के लिए कितना फायदेमंद है? कब पीना चाहिए गन्ने का जूस

Char Dham Yatra Route: चार धाम यात्रा पर जा रहे हैं तो रूट मैप को जरूर देख लें

Char Dham Yatra Route: चार धाम यात्रा पर जा रहे हैं तो रूट मैप को जरूर देख लें

Chardham Yatra registration: चार धाम यात्रा का रजिस्ट्रेशन ऐसे करें घर बैठे

Chardham Yatra registration: चार धाम यात्रा का रजिस्ट्रेशन ऐसे करें घर बैठे

हमारे Whatsaap ग्रुप से जुड़ें

Hindi-Biography.com

[Best 5] 15 August Per Nibandh in Hindi- Easy Essay [2022]

आजादी का दिन 15 अगस्त हर भारतीय के लिए एक सबसे बड़े पर्व में से एक है। इसलिए इस दिन स्कूलों में कुछ ज्यादा ही चहल-पहल और सांस्कृतिक कार्यक्रम देखने को मिलता है। पर इससे पहले आपको मिलता है 15 August Essay Task, इसलिए हम पेश कर रहे है ये पोस्ट-

15 August Essay in Hindi

15 अगस्त पर निबंध (100 शब्द).

दिनांक 15 अगस्त 1947 भारत वर्ष के लिए बहुत ही खुशी का दिन है। इस दिन ही भारत को 200 वर्षो के बाद अंग्रेज़ो की गुलामी से आजादी मिली थी। इस दिन आजादी के लिए शहीद हुये देश भक्तो को श्रद्धांजली दी जाती है।

Read Also: Best 30 Independence Day Wishes Message 2022

इस दिन सबसे पहले लाल किले पर कार्यरत प्रधान मंत्री द्वारा कर कमलों से ध्वजरोहरण होता है। उसके सभी सरकारी कार्यलयों और स्कूलों में भी झण्डा रोहण होता है और साथ ही राष्ट्र गान गाया जाता है। फिर विभिन्न प्रकार के रंगारंग कार्यक्रम होते है।

15 अगस्त पर निबंध (200 शब्द)

15 अगस्त भारत के हर नागरिक के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण दिन है, क्योकि इस ही दिन सन 1947 को भारत को अंग्रेजो से आजादी मिली थी। भारत की आजादी के लिए भारत के वीर सपूतो ने हँसते-हँसते  अपनी जान कुर्बान कर दी।

तब जा कर आज हम आजाद भारत में सांस ले  पा रहे है। इस ही दिन भारत के पहले प्रधानमंत्री के रूप में पंडित जवाहर लाल नहरु ने शपथ ली थी। इस दिन सभी सरकारी दफ्तरों और सभी विधालय में रंगा-रंग कार्यक्रम होते है और सभी को देश की आजादी के नायकों की वीर गाथाओं के बारे में बताया जाता है।

स्वतंत्रता दिवस की तैयारी स्कूल और कॉलेजों में कई दिनों पहले से ही शुरू हो जाती है।  इस दिन लाल-किले पर कार्यरत प्रधानमंत्री  द्वारा झण्डा रोहण किया जाता है और आजादी के लिए शहीद हुये क्रांतिकारियों को याद करने के लिए राष्ट्र गान गाया जाता है।

फिर मुख्य अथिति द्वारा भाषण दिया जाता है। फिर तीनों भारतीय सेना अपनी शक्ति  का प्रदर्शन करती है। उसके बाद देश भक्ति से ओत-प्रोत नाट्य कार्यकर्म और विभिन्न प्रकार के सांस्कृतिक कार्यक्रम  प्रस्तुत किए जाते  है और अंत में मिठाई वितरण का कार्यक्रम होता है।

15 अगस्त पर निबंध (300 शब्द)

200 वर्षो की लगातार प्रताड़णा के बाद 15 अगस्त 1947 को भारत को आजादी मिली। इस कारण 15 अगस्त को स्वतन्त्रता दिवस के रूप में घोषित किया गया। ये आजादी भारत को बहुत ही संघर्ष के बाद मिली।

Read Also: Best 75 Independence Day Quotes 2022

आजादी के इस हवन कुंड में  ना जाने कितने ही माताओं ने अपनी कोख और कितने ही स्त्रियो की मांग उजाड़ दी। फिर जा कर हम लोग आज स्वतंत्र भारत में आजादी की सांस ले पा रहे है। इसलिए 15 अगस्त को हर भारतीय स्वतन्त्रता दिवस के रूप में नहीं, बल्कि एक राष्ट्रीय त्यौहार के रूप में मनाता है।

पंडित जवाहर लाल नेहरू को स्वतंत्र भारत के पहले प्रधानमंत्री के रूप में चुना गया। 15 अगस्त को भारत की राजधानी दिल्ली के लाल किले पर पहली बार गर्व से तिरंगे को फहराया गया।

15 अगस्त 1947 की मध्य रात्री को नेहरू जी ने अपने भाषण “ The Tryst with Destiny ” में पूरे भारतीय जनता को संभोधित करते हुये कहा कि वर्षों की गुलामी के बाद आज वो समय आ गया है, जहां जा कर हम संकल्प निभाएंगे और अपने दुर्भाग्य का अंत करेंगे।

भारत में अलग-अलग जाति, धर्म और सम्प्रदाय के लोग जिनकी बोली, वेशभूषा और रहन-सहन अलग-अलग होने के बावजूद भी सभी भारतीय 15 अगस्त को एक त्यौहार की तरह मानते है। पूरे विश्व में कही भी रहें पर अपने भारतीय होने पर गर्व होता है।

ये हमारे शहीदों का बलिदान ही है जो हमें हमेंशा से एकता के सूत्र में बंधे हुये है। वरना इतनी सारी विभिन्नताओ के बाद भी एक ही तिरंगे के नीचे गर्व से रहते है। भारत विश्व के सबसे विशाल लोकतन्त्र है।

15 अगस्त पर निबंध (600 शब्द)

प्रस्तावना :- भारत के महान कवि तुलसी दास का कहना है कि “पराधीन सपनेहु सुख नाही ” अर्थात इस पंक्ति से दासजी ये कहना चाह रहे है कि जो व्यक्ति पराधीन या किसी का गुलाम होता है उस को स्वप्न या नींद में भी सुख नही मिलता है अर्थात पराधीन मनुष्य को किसी भी समय सुख मिलता है चाहे वह नींद की अवस्था में ही क्यो ना हो।

फिर भारत तो 200 वर्षो से अंग्रेज़ो का गुलाम था। ऐसे में भारत की जनता को कैसे चैन मिलता, इस कारण भारत की जनता ने 1857 में एक साथ मिलकर अंग्रेज़ो का विरोध कर दिया। परंतु सफलता मिलते-मिलते 90 दशक लग गए। अंत में 15 अगस्त 1947 को जा कर भारत स्वाधीन हो पाया।

ध्वजा रोहण :-  पंडित जवाहर लाल नेहरू को आजाद भारत का पहले प्रधानमंत्री चुना गया था। पहली बार 15 अगस्त 1947 को सम्पूर्ण भारत वर्ष ने लाल किले के केलहरी गेट पर आजादी का तिरंगा लहराया।

भारत के वीर सपूतों को उनके अखंड योगदान के लिए  श्रद्धांजलि दी गई। फिर स्वतंत्र भारत ने मिलकर राष्ट्र गान गाया। तब से प्रत्येक वर्ष 15 अगस्त को पूरे भारतवासी स्वधिनता  दिवस के रूप में मानते है।

Read Also: Best 51 Independence Day Status 2022

स्वधीनता दिवस   का कार्यक्रम :-   स्वतन्त्रता दिवस के कार्यक्रम की तैयारी अगस्त महीने के 1 तारीख से ही शुरू हो जाती है। इस दिन के लिए स्कूल के छात्र और छात्राओ में अत्यधिक उत्साह रहता है।

जिसके लिए बालक – बालिकाएं तरह-तरह के नाटक और नृत्य प्रस्तुत करते है, जो  देश भक्ति से औत-प्रौत होते है। आजादी के लिए शहीद हुये वीर सपूतो के लिए परेड और तोपों की सलामी दी जाती है। साथ ही देश के लिए कुछ कर गूजरने वाले देशवासियो को राष्ट्र पुरस्कार से सम्मानित किया जाता है।

आजादी का इतिहास :-  आज भी अगर भारत के उन वीर सपूतों को याद करते है तो आँखों में आँसू आ जाते है। 200 वर्षो से गुलाम रहे भारतीयो ने आखिरकार त्रस्त हो कर आजादी का बीड़ा उठा लिया। परंतु केवल संकल्प मात्र के आजादी नहीं मिलती है।

इसके लिए आजादी रूपी हवन कुंड में आहुती देनी होती है। तो फिर क्या था, ये भारत माता के लाल  पीछे हटने वालों में से नही थे।  भगत सिंह, सुभाष चंद्र बोस और  अनगिनत वीरों ने अपनी जान की आहुती दे कर आजादी के हवन कुंड की प्रजावलित किया। महात्मा गांधी, सरदार बलभ भाई पटेल जैसे कई अहिंसा के पुजारियों ने आंदोलन और सत्याग्रह से ब्रिटिश सरकार की जड़े हक हिला दी।

Read Also: Best 25 Independence Day Images & Wallpapers 2022

इतनी से सफलता के लिए न जाने कितनी  बार जेल  जाना पड़ा और अनगिनत लठिया खानी पड़ी। परंतु ये भारत के मिट्टी के वो लाल थे, जो मरते दम  तक हार नही माने। आखिरकार 15 अगस्त 1947 को स्वर्णिम दिन आ ही गया, जिस दिन आजादी मिली। आजादी के हवन कुंड में शहीदो की आहुतियों का सफर थम गया।

उपसंहार :- 15 अगस्त भारतियों के लिए बहुत ही खुशी का दिन है। इस दिन ही भारत के पूतों के बलिदान रंग लाई  और इसी कारण आज हम भारत में आजादी की सांस ले पा रहे है। परंतु जब भी हम आजादी और शहीदों को याद करते है तो अनायास ही हमारे आँखों में आँसू आ जाते है।

इस लिए हर भारतीय का यह फर्ज बनता है कि वह देश के लिए कुछ ऐसा करे कि उसे भारतीय होने पर गर्व हो। परंतु आज भी बहुत से लोग है, जो अपने भारत देश के गर्व को गिराना चाहते है।

हमें देश के एकता और अखंडता बनाए रखना होगा।  घुस, जमाखोरी, तस्करी और भ्रष्टाचार से देश की रक्षा करना होगा। देश के  गौरव और सम्मान को बनाए रखना हमारा परम कर्तव्य होना चाहिये।

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आए तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे।

Type above and press Enter to search. Press Esc to cancel.

15 August

15 August Essay In Hindi – स्वतन्त्रता दिवस पर हिंदी में निबंध

इस पोस्ट में आपको 15 अगस्त पर निबंध पढ़ने को मिलेगा|

भारत में 15 अगस्त ( 15 August ) यानि स्वतंत्रता दिवस ( Independence Day ) बड़ी धूमधाम और उत्साह के साथ मनाया जाता है। 15 अगस्त 1947 के दिन भारत को अंग्रेजों की गुलामी से आजादी मिली थी।

तब से हमारे देश में प्रत्येक वर्ष 15 अगस्त ( 15 August ) को स्वतंत्रता दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस दिन भारत के प्रधानमंत्री लाल किले पर राष्ट्रीय ध्वज फहराते हैं।

इसे भी पढ़ें : स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध

इस दिन सभी सरकारी कार्यालयों जैसे बैंक, पोस्ट ऑफिस आदि में अवकाश होता है। इसके साथ ही सभी स्कूल और ऑफिस में तिरंगा फहराया जाता है। इसके साथ ही कई स्कूल और कॉलेज में निबंध, कविता,भाषण, नाटक तथा संगीत आदि कई प्रतियोगिता भी आयोजित की जाती है।

15 August पर निबंध लिखने की प्रतियोगिता में शामिल होने वाले छात्र यहां से हिंदी में स्वतंत्रता दिवस पर निबंध( Independence Day Essay In Hindi ) पढ़ सकते हैं।

15 august

Independence Day Short Essay In Hindi

15 अगस्त 1947 का दिन भारत के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण दिन था। इस दिन अंग्रजों की लगभग 200 वर्ष की गुलामी के बाद हमारे भारत देश को आज़ादी प्राप्त हुई थी। भारत को आज़ादी दिलाने के लिए कई स्वतंत्रता सेनानियों को अपनी जान गवानी पड़ी थी।

स्वतंत्रता सेनानियों के कठिन संघर्ष के बाद भारत अंग्रेजों की 200 साल की हुकूमत से सन 1947 में आज़ाद हुआ था। तब से ले कर आज तक 15 August को हम स्वतंत्रता दिवस के रूप में मनाते हैं।

स्वतंत्रता दिवस ( swatantrata diwas ) के दिन भारत में राष्ट्रीय अवकाश होता है। इसके एक दिन पहले भारत के राष्ट्रपति देश के समक्ष संबोधित करते हैं। जिसे रेडियो के साथ – साथ कई टीवी चैनेल्स में भी दिखाया जाता है। हर वर्ष स्वतंत्रता दिवस के दिन देश के प्रधानमंत्री लाल किले पर तिरंगा फहराते हैं। तिरंगा फहराने के बाद राष्ट्र गान गाया जाता है और 21 बार गोलियां चला कर सलामी भी दी जाती है।

इसके साथ ही भारतीय सशस्त्र बल, अर्धसैनिक बल और एनएनसीसी कैडेड परेड करते हैं। इस दिन लाल किले से सीधा टीवी के डी डी नेशनल चैनल और आल इंडिया रेडियो में सीधा प्रसारण किया जाता है। आतंकवाद के खतरे को ध्यान में रखते हुए सुरक्षा के काफ़ी कड़े इन्तेजाम किये जाते हैं।

देश की राजधानी के साथ – साथ देश के अन्य सभी राज्यों में भी राज्य के मुख्यमंत्री सम्मान के साथ तिरंगा फहराते हैं। 15 August को हमारे महान स्वतंत्रता सेनानियों को श्रद्धांजलि दी जाती और उनका सम्मान किया जाता है।

इस दिन देशभक्ति के गीत गाये जाते है और नारे भी लगाये जाते हैं। वहीं कुछ लोग पतंग उड़ा कर आजादी का पर्व मनाते है।

15 अगस्त पर हिंदी में लंबा निबंध – Swatantrata Diwas Long Essay In Hindi

भारत में हर वर्ष स्वतंत्रता दिवस ( Independence Day ) 15 अगस्त को मनाया जाता है। प्रत्येक व्यक्ति के लिए स्वतंत्रता दिवस का विशेष महत्व होता है। इस लिए हर भारतीय के लिए यह दिन बहुत महत्व रखता है।

क्योंकि 15 August 1947 के दिन ही भारत को अंग्रजों की परीतंत्रता के बाद स्वतंत्रता प्राप्त हुई थी। स्वतंत्रता दिवस ( Independence Day ) को हम राष्ट्रीय त्योहार के रूप में मानते हैं।

कई वर्षों के विद्रोहों के बाद ही हमने स्वतंत्रता प्राप्त की और 14 और 15 अगस्त 1947 की मध्यरात्रि को भारत एक स्वतंत्र देश बन गया। दिल्ली के लाल किले में पंडित जवाहर लाल नेहरू ने पहली बार भारत के झंडे का अनावरण किया था। उन्होंने भारत की आजादी के दिन ऐतिहासिक भाषण दिया था जिसे हम “ट्रास्ट विस्ट डेस्टिनी” के नाम से जानते हैं।

पूरे देश ने उन्हें अत्यंत खुशी और संतुष्टि के साथ सुना। तब से हर वर्ष स्वतंत्रता दिवस ( Independence Day ) के इस महान अवसर पर, प्रधानमंत्री पुरानी दिल्ली में लाल किले पर राष्ट्रीय ध्वज फहराते हैं और जनता को संबोधित करते हैं। इसके साथ ही तिरंगे को 21 तोपों की सलामी भी दी जाती है।

इस दिन सभी सरकारी दफ्तरों और कार्यालयों में तिरंगा फहराया जाता है और राष्ट्रगान “जन-गण-मन” गाया जाता है। स्कूल और कॉलेजों में विभिन्न प्रकार के कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है और मिठाइयां भी बांटी जाती हैं।

मंगल पांडे, सुभाषचंद्र चंद्र बोस, भगतसिंह, रामप्रसाद बिस्मिल, रानी लक्ष्मीबाई, महात्मा गांधी, अशफाक उल्ला खां, चन्द्रशेखर आजाद, सुखदेव, राजगुरु आदि कई स्वतंत्रता सेनानियों की कुर्बानियों को याद किया जाता है तथा उन्हें श्रद्धांजलि दी जाती है।

कुछ भारतीय पतंग उड़ा कर, तो कुछ कबूतर उड़ा कर आज़ादी मानते हैं। प्रतिवर्ष स्वतंत्रता दिवस ( Independence Day ) मनाना भारत के स्वतंत्रता के इतिहास को जिंदा रखता है हर साल हमें यह याद दिलाता है कि हमारी आजादी के लिए कितने वीर जवानों ने अपनी जान गवां दी थी।

हमें अपने देश के उन वीर शहीदों पर गर्व महसूस होता है जब स्वतंत्रता दिवस ( Independence Day ) के अवसर पर उनका नाम हम बड़े आदर और सम्मान के साथ लेते हैं। धन्य है ये भारत देश की भूमि जिसने ऐसे वीर जवानों को जन्म दिया। जय हिंद, जय भारत।

उम्मीद करता हूँ दोस्तों 15 August यानि स्वतंत्रता दिवस के बारे में आपको पूरी जानकारी मिल पाई होगी तथा अब आपको स्वतंत्रता दिवस पर निबंध ( Swatantrata Diwas Par Nibandh ) लेखन में कोई दिक्क्त नहीं होगी| अपना कीमती समय देने के लिए आपका बहुत – बहुत धन्यवाद|

' src=

TOPKRO.COM पर विजिट करने के लिए धन्यवाद, हम आपके साथ हमेशा विभिन्न प्रकार की सही और सटीक जानकारी देने की कोशिश करते रहेंगे।

2 thoughts on “15 August Essay In Hindi – स्वतन्त्रता दिवस पर हिंदी में निबंध”

good article for 15 august, nice पूनम शर्मा

thanks, dear keep supporting

Comments are closed.

  • Bihar Board

GSEB SSC Result 2024

Srm university.

  • TN Board Result 2024
  • GSEB Board Result 2024
  • Karnataka Board Result 2024
  • CG Board Result 2024
  • Kerala Board Result 2024
  • Shiv Khera Special
  • Education News
  • Web Stories
  • Current Affairs
  • नए भारत का नया उत्तर प्रदेश
  • School & Boards
  • College Admission
  • Govt Jobs Alert & Prep
  • GK & Aptitude
  • articles in hindi

स्वतंत्रता दिवस 15 अगस्त पर निबंध - Essay on Independence Day in Hindi

Independence day essay in hindi for school: क्या आप स्वतंत्रता दिवस पर हिंदी में एक अनोखा, प्रभावशाली और दिल को छू लेने वाला निबंध लिखना चाहते हैं 100, 200, 500 शब्दों तक के विभिन्न independence day essay in hindi for school के लिए इस लेख को देखें। .

Pragya Sagar

Independence Day Essay in Hindi for School: 15 अगस्त 1947 को हमारे इस मातृभूमि का पहला स्वतंत्रता दिवस था. आज जिस भूमि को हम अपना आज़ाद वतन मानते हैं उसे आज़ाद हुए 77 वर्ष हो चुके हैं. सोने की चिड़िया से ब्रिटिश कॉलोनी बनने से लेकर दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्रों में से एक बनने का भारत देश का लंबा सफर सराहनीय और विख्यात है. आज हम इस आज़ादी की हवा में सांस ले पा रहे हैं क्यूंकि हमारे पूर्वजों ने हमें यह आज़ादी दिलाने के लिए 200 वर्ष तक संघर्ष किया। इसलिए आजादी का यह जश्न पूरे देश में देशभक्ति और उत्साह के साथ मनाया जाता है। आज के दिन विद्यार्थियों में विशेष उत्सुकता देखी जाती है. देश भर के स्कूलों में इस अवसर को उत्साह के साथ मनाते हैं. देश के बच्चे और युवा ही इसका भविष्य है. इनमें देशभक्ति की भावना जगाने के लिए निबंध लेखन, स्पीच कॉम्पीटीशन्स, नाटक, पेट्रियोटिक गीत और नृत्य के कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं जिनमे बच्चे बढ़-चढ़ के हिस्सा लेते हैं. 

इस लेख में, हमने स्कूल स्टूडेंट्स के लिए अंग्रेजी में 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस पर निबंध संकलित किया है। ये निबंध 100 से 500 शब्दों तक के हैं। हमने उन छात्रों के लिए अतिरिक्त सामग्री भी प्रदान की है जो अपने निबंध को और लंबा करना चाहते हैं या उसके किसी हिस्से को संशोधित करना चाहते हैं। 

  • Essay on Independence Day in English
  • स्कूल के बच्चो के लिए स्वतंत्रता दिवस भाषण 2023 हिंदी में

हिंदी निबंध लेखन टिप्स 

  • अपने निबंध को उद्धरणों, कहावतों, नारों आदि के साथ शुरू से ही दिलचस्प बनाएं।
  • सही व्याकरण के साथ सरल भाषा का प्रयोग करें।
  • अपनी छाप छोड़ने के लिए दिल को छू लेने वाली कहावत, नारा या उद्धरण शामिल करें।
  • सबसे महत्वपूर्ण बात यह सुनिश्चित करें कि आपका स्वतंत्रता दिवस निबंध तथ्यात्मक है और इसमें कोई गलत, असत्यापित जानकारी नहीं है।
  • सत्यापित जानकारी प्राप्त करने के लिए जागरण जोश जैसे प्रामाणिक स्रोत का सहारा लें।

हिंदी स्वतंत्रता दिवस निबंध 

  • स्वतंत्रता दिवस 15 अगस्त 2023 पर भाषण - Independence Day Speech in Hindi
  • Independence Day Short Speech in English 2023 for School Students

हिंदी स्वतंत्रता दिवस निबंध 100 शब्दों में 

गूंज रहा है दुनिया में हिंदुस्तान का नारा चमक रहा है आसमान में तिरंगा हमारा!

15 अगस्त, 2023, ब्रिटिश कोलोनिल राज से भारत का 77वां स्वतंत्रता दिवस है. यह एक ऐतिहासिक दिन है और हमारे देशवासियों के बीच देशप्रेम, समर्पण और एकता का प्रतीक है.

स्वतंत्रता दिवस समारोह की शुरुआत दिल्ली के लाल किले पर प्रधान मंत्री द्वारा राष्ट्रीय ध्वज फहराने के साथ होती है, जिसके बाद पूरे देश में देशभक्ति समारोह मनाया जाता है. स्वतंत्रता दिवस हमारे स्वतंत्रता सेनानियों और नेताओं के बलिदान को याद करने का समय है जिन्होंने हमारी आजादी के लिए अपने प्राणों की आहुति दे दी. स्वतंत्रता दिवस हमें भारत माता की उन्नति और प्रगति के प्रति हमारे कर्तव्यों की याद दिलाता है.

हिंदी स्वतंत्रता दिवस निबंध 200 शब्दों में 

  "स्वराज मेरा जन्मसिद्ध अधिकार है, और मैं इसे लेकर रहूँगा" - बाल गंगाधर तिलक

15 अगस्त यानि भारतीय स्वतंत्रता दिवस देश के इतिहास के सबसे महत्वपूर्ण दिनों में से एक है। 15 अगस्त 2023 को ब्रिटिश कोलोनियल राज से हमारे देश की आजादी की 76 वीं वर्षगांठ है।

इस दिन को मनाने के लिए पूरा देश एक साथ आता है। माननीय प्रधान मंत्री नई दिल्ली में लाल किले पर भारतीय तिरंगे फहराते हैं। देश के सभी राज्यों में राज्याधिकारी और अन्य नेता राष्ट्रीय ध्वज फहराते हैं, देशभक्ति के गीत गाते हैं और सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित करते हैं जो हमारे अंदर एकता और गौरव की भावना का नवनिर्माण करते हैं. 

भारत को 1947 में आजादी मिल गई थी लेकिन इस आजादी की लड़ाई कई वर्षों लंबी और कठिन थी. स्वतंत्रता की इस लड़ाई का नेतृत्व प्रख्यात नेताओं और स्वतंत्रता सेनानियों ने किया। खून पसीना बहाकर, अपने भविष्य का निःस्वार्थ त्याग कर, अपने जीवन का बलिदान दिया और करोड़ों भारतीयों को ब्रिटिश उत्पीड़न के खिलाफ आवाज उठाने के लिए प्रेरित किया। स्वतंत्रता दिवस हमारे पूर्वजों के इन बलिदानों की याद दिलाता है। यह हमें अपनी स्वतंत्रता को संजोने और राष्ट्र की भलाई के लिए काम करने की प्रेरणा देता है।

स्वतंत्रता दिवस समारोह से हमें विविधता में एकता की याद दिलाने के लिए है। यह राष्ट्रवाद की भावना को फिर से जगाने और हमारे देश की वृद्धि और विकास में योगदान देने का समय है।

हिंदी स्वतंत्रता दिवस निबंध 500 शब्दों में

तिरंगा सिर्फ आन या शान नहीं है हम भारतीयों की जान है।

स्वतंत्रता दिवस का प्रत्येक भारतीय के दिल में एक महत्वपूर्ण स्थान है क्यूंकि यह हिन्दुस्तानियों की एकता और अटूट भाईचारे की विजय के साथ चिह्नित है। यह आज़ादी हमें 200 सालों की यातना, उत्पीड़न, युद्ध और बलिदान के बाद  15 अगस्त, 1947 को मिली. ब्रिटिश कोलोनियल शासन से कड़ी मेहनत से हासिल की गई यह आजादी लोकतंत्र का जश्न है. यह भारत के इतिहास में एक नये युग की शुरुआत का प्रतीक है।

दशकों के अथक संघर्ष और बलिदान से सजी स्वतंत्रता की यात्रा कठिन थी। महात्मा गांधी, रानी लक्ष्मी बाई, जवाहरलाल नेहरू, सुभाष चंद्र बोस, भगत सिंह और सरोजिनी नायडू जैसे असंख्य नेताओं और सेनानियों की मेहनत और बलिदान को किसी प्रकाश की आवश्यकता नहीं है. देश को इन्हीं वीरों के बलिदान के कारण आजादी मिली, जिन्होंने भारत के उज्ज्वल भविष्य के लिए अपना आज कुर्बान कर दिया. 

स्वतंत्रता दिवस समारोह की शुरुआत हमारे प्रधान मंत्री द्वारा नई दिल्ली के लाल किले पर राष्ट्रगान और इक्कीस तोपों की सलामी के साथ भारतीय राष्ट्रीय ध्वज फहराने से होती है। इस भव्य समारोह में कई सरकारी अधिकारी, विदेशी गणमान्य, स्कूली छात्र और कई अन्य नागरिक शामिल होते हैं.

ध्वजारोहण के बाद, माननीय प्रधान मंत्री राष्ट्र को संबोधित करते हैं और पिछले वर्ष में राष्ट्र की उपलब्धियों को दर्शाते हुए और आने वाले वर्षों के लिए राष्ट्र के दृष्टिकोण को सामने रखते हुए भाषण देते हैं. विभिन्न जीवंत सांस्कृतिक कार्यक्रम, नृत्य, डायन इत्यादि भारत की विविध विरासत और एकता को प्रदर्शित करते हैं. स्वतंत्रता की हवा में हमारा राष्ट्रीय ध्वज गर्व से ऊँचा लहराता है.

स्वतंत्रता दिवस का जश्न पूरे देश में जोरों शोरों से मनाया जाता है। राजधानी दिल्ली से लेकर और सभी राज्य की राजधानियों और छोटे से छोटे गांव तथा कस्बों में सभी उत्साह से स्वतंत्रता का जश्न मनाते हैं. भारत के कोने-कोने में तिरंगा लहराता है. स्वतंत्रता दिवस समारोह देश के प्रति देशवासियों का प्रेम और देश के बेहतर भविष्य के प्रति प्रतिबद्धता के साथ आयोजित किए जाते हैं। सरकारी कार्यालयों, स्कूलों और कॉलेजों में तिरंगा फहराया जाता है। बच्चे हाथों में भारतीय झंडे लेकर शान से घूमते नजर आते हैं. यह उन बहादुर स्वतंत्रता सेनानियों के बलिदान की याद दिलाता है जिन्होंने देश की आजादी के लिए अताह संघर्ष किया। यह भारतीयों में गर्व और देशभक्ति की गहरी भावना पैदा करता है, उनसे अपनी कड़ी मेहनत से अर्जित स्वतंत्रता की रक्षा करने और उसे संजोने और देश की प्रगति में योगदान देने का आग्रह करता है।

यह महज़ एक बधाइयों और खुशियों का दिन नहीं है. स्वतंत्रता दिवस समारोह का सार केवल उल्लासपूर्ण समारोहों से परे है। स्वतंत्रता दिवस बच्चे, युवाओं और बुजुर्गों को उन चुनौतियों की याद दिलाता देता है है जिनका मुकाबला हमारे पूर्वजों ने किया था और उन चुनौतियों की दस्तक के बारे में आगाह करता है जो हमारे सामने हैं।

स्वतंत्रता दिवस केवल स्मरणोत्सव और उत्सव का दिन नहीं है, बल्कि स्वराज और राष्ट्र-निर्माण के प्रति हमारी प्रतिबद्धता का नवीनीकरण है। यह भारतीयों को एकता, समानता और सांप्रदायिक सद्भाव की भावना को कभी न खोने देने के लिए प्रेरित करता है।

लता मंगेशकर का लोकप्रिय व सदाबहार गीत के बोल “ए मेरे वतन के लोगों, ज़रा आँखों में भर लो पानी, जो शहीद हुए हैं उनकी, ज़रा याद करो कुर्बानी” हमारे स्वतंत्रता के सच्चे सार बयान करता है. 

यह दिन है अभिमान का, है भारत माता के मान का ! नहीं जाएगा रक्त व्यर्थ, वीरों के बलिदान का !!

  • Independence Day 15 August Poems in English for School Children
  • Speech on Independence Day 2023 in English for School Students and Children

Independence Day Slogans in Hindi

  • ‘करो या मरो’,
  • ‘आराम हराम है’
  • ‘अंग्रेजों भारत छोड़ो'
  • ‘तुम मुझे खून दो मै तुम्हे आजादी दूंगा’
  • ‘इंकलाब जिंदाबाद’
  • ‘सत्यमेव जयते’
  • ‘वंदे मातरम’
  • ‘स्वराज मेरा जन्मसिद्ध अधिकार है और मैं उसे लेकर ही रहूँगा’
  • ‘जय जवान जय किसान’
  • ‘सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोस्तां हमारा’
  • ‘विजयी विश्व तिरंगा प्यारा, झंडा ऊँचा रहे हमारा’
  • ‘सरफ़रोशी की तमन्ना, अब हमारे दिल में है, देखना है ज़ोर कितना, बाज़ु-ए-कातिल में है?

आप जागरण जोश पर सरकारी नौकरी , रिजल्ट , स्कूल , सीबीएसई और अन्य राज्य परीक्षा बोर्ड के सभी लेटेस्ट जानकारियों के लिए ऐप डाउनलोड करें।

  • हम स्वतंत्रता दिवस क्यों मनाते हैं 200 शब्द निबंध? + "15 अगस्त यानि भारतीय स्वतंत्रता दिवस देश के इतिहास के सबसे महत्वपूर्ण दिनों में से एक है। 15 अगस्त 2023 को ब्रिटिश कोलोनियल राज से हमारे देश की आजादी की 76 वीं वर्षगांठ है। इस दिन को मनाने के लिए पूरा देश एक साथ आता है।" स्वतंत्रता दिवस पर पूरे 200 शब्दों का निबंध देखने के लिए इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें.
  • स्वतंत्रता दिवस 15 अगस्त पर निबंध कैसे लिखें? + 15 अगस्त, 1947 को भारत देश अंग्रेजो से आजाद हुआ. यह गौरव का दिन देशवासी उल्लास और दर्शप्रेम की भावना से मनाते हैं. 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस पर निबंध लिखने के लिए जरूररी है की आप इस आज़ादी के सफर की गाथा को दिल से समझ कर, आसान एवं सरल भाषा में प्रस्तुत करें.
  • RBSE 10th, 12th रिजल्ट 2024
  • एसएससी जीडी कांस्टेबल रिजल्ट 2024
  • CG Board रिजल्ट 2024
  • CGBSE 10th रिजल्ट 2024
  • CGBSE 12th रिजल्ट 2024
  • cgbse.nic.in रिजल्ट 2024
  • cg.results.nic.in Result 2024
  • HBSE 12th Result 2024
  • JAC Class 12th रिजल्ट 2024
  • स्कूल की बात

Latest Education News

Happy Mother’s Day 2024: 55+ Images, Wishes, Quotes, Short Captions and Messages to share with beloved Moms

(डायरेक्ट रिजल्ट) CG Board 10th, 12th Result 2024 Link, Roll Number: नतीजे जारी, एक क्लिक में देखें अपना परिणाम और मार्कशीट

Fastest 50s In IPL History: किसने जड़ा है आईपीएल इतिहास का सबसे तेज़ अर्द्धशतक? देखें पूरी लिस्ट

Who Won Yesterday IPL Match: KKR vs MI, Match 60, Check All Details and Latest Points Table

Most Sixes In IPL 2024: आईपीएल में चौकों-छक्कों की रेस में कौन सबसे आगे? देखें पूरी लिस्ट

IPL 2024 Playoffs Teams: ये है प्लेऑफ़ की चार प्रबल दावेदार, KKR Qualify करने वाली पहली टीम बनी

[Fast Update] IPL Points Table 2024: आईपीएल 2024 अपडेटेड पॉइंट टेबल यहां देखें, KKR Qualify

IPL 2024 KKR Players: कोलकाता नाइट राइडर्स के खिलाड़ियों की पूरी लिस्ट यहां देखें

ICC T20 World Cup 2024: T20 वर्ल्ड कप का शेड्यूल जारी, कब और किससे है भारत का मैच देखें यहां

IPL 2024 CSK Players: चेन्नई सुपर किंग्स के खिलाड़ियों की पूरी लिस्ट यहां देखें

Lok Sabha Elections 2024: प्रधानमंत्री पद पर रहते हुए लोकसभा चुनाव में किस नेता को मिली है हार? पढ़ें

[यहां देखें] Purple Cap in IPL 2024: किसके नाम सबसे ज्यादा विकेट, कौन निकलेगा सबसे आगे?

Accept This Vision Challenge To Find Three Words Hidden In The Optical Illusion In 9 Seconds. Test Your IQ!

Is Mother's Day Twice In A Year? When Is Mother Sunday 2024 Celebration In India & Other Countries?

Important Days in May 2024: National and International Dates List in May

National Technology Day 2024: Date, Theme, History, Significance & More

Brain Teaser IQ Test: Can You Find The ELEPHANT Hidden Among Koala Bears In The Picture? 7 Seconds Left!

Find 3 differences between the crocodile pictures in 10 seconds!

Optical Illusion Eye Test: Find the car key in the picture in 7 seconds!

SSC GD Constable Result 2024 Live Update: जल्द जारी होने वाला है एसएससी कांस्टेबल रिजल्ट ssc.gov.in पर, यहाँ देखें एक्सपेक्टेड कटऑफ मार्क्स

15 अगस्त (स्वतंत्रता दिवस) पर निबंध – Essay on Independence Day in Hindi

स्वतंत्रता दिवस पर निबंध हिंदी में – Independence Day Essay in Hindi 

हमारे देश का सबसे महत्वपूर्ण और स्वर्णिम पृष्ठ है – 15 अगस्त, 1947 । इसी दिन हम सदियों की गुलामी की जंजीर तोड़ कर आजाद हुए।

चंद्रशेखर आजाद, सरदार भगत सिंह, खुदीराम बोस आदि शहीदों का स्वपन साकार हुआ।

देश की आजादी के लिए उनकी कुर्बानियां सार्थक हुई। महात्मा गांधी , सुभाष चंद्र बोस, डॉ राजेंद्र प्रसाद , सरदार वल्लभभाई पटेल आदि महापुरुषों की साधना पूरी हुई।

दुनिया के आज़ाद देशों के आकाश में एक नया सितारा जगमगा उठा – स्वाधीन भारत।

15 august easy essay in hindi

15 अगस्त हमारा राष्ट्रीय त्योहार है। इस दिन देश के भाग्य ने पलटा खाया, आजादी मिली। इसके लिए हमारे देश के लाखो लोगो ने अपनी जान की बाजी लगाई, अपनी सारी जिंदगी या जवानी जेल के सींकचों के अन्दर गुजार दी।

कितनी माताओं के लाल छिने, कितनी सुहागिनों के माँग धुले तब जाकर यह दिन आया। अंग्रेज हमारे देश में व्यापार करने के लिए आए।

हमारी आपसी फूट से लाभ उठाकर उन्होंने भारतीयों को परतंत्रता के पाश में जकड़ लिया।

यह देखकर स्वतंत्रता-प्रेमी भारतीयों के हृदय में तीव्र आक्रोश पैदा हुआ और उन्होंने अंग्रेजी साम्राज्य के खिलाफ स्वतंत्रता की लड़ाई छेड़ दी।

अंग्रेज अपनी सत्ता की रक्षा के लिए जो कुछ भी कर सकते थे, उन्होंने सबकुछ किया।

फिर भी देशभक्तो ने कदम पीछे नहीं हटाया। हँसते-हँसते फाँसी के तख्ते पर झूले। धीरे-धीरे अंग्रेजी साम्राज्य की नीव हिली। सत्य और अहिंसा के अस्त्र के सामने अंग्रेजो की कठोरता प्रकम्पित हो उठी।

15 अगस्त 1947 का इतिहास – 

15 अगस्त, 1947 की अर्धरात्रि को शताब्दियों की खोई स्वतंत्रता भारत को पुनः प्राप्त हो गई। सारे देश में स्वतंत्रता की लहर दौर गई। लालकिले पर देश का अपना तिरंगा झंडा लहराया।

एक नये अध्याय की शुरुआत हुई। लेकिन 15 अगस्त का दूसरा पहलू भी है। इसके एक दिन पूर्व मातृभूमि के दो टुकड़े हो गए।

भारत का एक अंग कटकर पाकिस्तान बना। अखंड भारत का सपना बिखर गया। हिन्दू और मुसलमानो के बीच अंग्रेजो ने साम्प्रदायिकता की दीवारे खड़ी कर दी – नफ़रत का जहर घोल दिया।

हमारे नेताओं के लाख प्रयत्न के बावजूद उस जहर का असर आज भी देखा जा रहा है। इस प्रकार एक ओर यह दिन हमारे लिए हर्ष का है तो दूसरी ओर विषाद का भी है।

प्रतिवर्ष यह राष्ट्रीय पर्व बड़ी धूम-धाम से मनाया जाता है। विद्यालय के छात्र अपने इस ऐतिहासिक उत्सव को बड़े उल्लास और उत्साह के साथ मनाते है।

उस दिन राज्यों की राजधानियों में भी किसी सार्वजानिक स्थानों पर मुख्यमंत्री के कर-कमलो द्वारा झंडा फहराया जाता है।

सरकारी कार्यालयों में काफी सरगर्मी के साथ तिरंगा झंडा फहराया जाता है तथा लोग अपने-अपने घरो पर भी तिरंगा झंडा फहराते है।

देश की राजधनी दिल्ली में विशेष आयोजन होता है। प्रधानमंत्री लालकिले पर झंडा फहराने के बाद राष्ट्र को संबोधित करते है। राज्यों की आकर्षक झाँकियाँ निकली जाती है।

यधपि हमें आज़ादी मिल गई है तथापि देश की स्थिति अभी भी पूरी तरह से अच्छी नहीं हैं। हमारे देश में अशिक्षा है, भ्रष्टाचार है, ग़रीबी है। इन्हें मिटाना होगा, तभी हम सही अर्थ में स्वतंत्र देश के आदर्श नागरिक बन सकेंगे।

Final Thoughts – 

आप यह भी महत्वपूर्ण हिंदी निबंध को भी जरूर पढ़िए –

  • गणतंत्र दिवस पर निबंध – Short Essay on 26 January in Hindi 
  • शिक्षक दिवस पर निबंध – Teacher’s Day Par Nibandh in Hindi 
  • मदर टेरेसा पर निबंध हिंदी में – Mother Teresa Essay in Hindi 

Leave a Comment Cancel reply

InfinityLearn logo

15 August Essay In Hindi

Infinity Learn IL premier league ILPL

Table of Contents

15 August Essay: India’s Independence Day, celebrated on 15th August each year, holds a special place in the hearts of every Indian. It marks the day when India finally gained its freedom from British colonial rule. This day marks the historic moment when India gained independence from British colonial rule in 1947. To commemorate this momentous event, one should be aware of the importance of Independence Day. We have shared a few sample essays of different lengths to help you express your thoughts about this remarkable day and help you with essay writing.

Fill Out the Form for Expert Academic Guidance!

Please indicate your interest Live Classes Books Test Series Self Learning

Verify OTP Code (required)

I agree to the terms and conditions and privacy policy .

Fill complete details

Target Exam ---

15 August Essay

15 august essay 1 – 150 words.

15th August is a day that fills every Indian with pride and patriotism. It commemorates the moment when our nation shook off the chains of British colonialism and became a free and sovereign country. On this day in 1947, India’s first Prime Minister, Jawaharlal Nehru, hoisted the tricolor flag at the Red Fort in Delhi, symbolizing our newfound independence.

Independence Day is not just a public holiday; it’s a day of reflection and gratitude. We remember the sacrifices made by countless freedom fighters who struggled for our freedom. It’s a day to celebrate the values of democracy, diversity, and unity that define our great nation.

On this day, people across India come together to hoist the national flag, sing the national anthem, and participate in various cultural events and parades. The tricolor flag, with its saffron, white, and green stripes, represents our diversity, peace, and courage.

Independence Day is a time to reaffirm our commitment to building a strong, prosperous, and inclusive India. It reminds us that our freedom comes with the responsibility to uphold the principles of justice, equality, and liberty for all.

Take free test

15 August Essay 2 – 250 Words

Independence Day, celebrated on 15th August, holds immense historical and emotional significance for the people of India. It marks the culmination of a long and arduous struggle for freedom that spanned several decades.

The story of India’s independence is one of courage, sacrifice, and unity. Countless freedom fighters, led by leaders like Mahatma Gandhi, Jawaharlal Nehru, Sardar Patel, and Subhas Chandra Bose, dedicated their lives to the cause of liberating our nation from British colonial rule. The culmination of their efforts came on 15th August 1947 when India finally achieved independence.

On this day, the entire nation comes together to celebrate its freedom. The most iconic celebration takes place at the Red Fort in Delhi, where the Prime Minister hoists the national flag and delivers a speech to the nation. People from all walks of life gather to witness this historic event and celebrate the spirit of freedom.

Independence Day is not just a day of celebration; it is also a day of reflection. It reminds us of the values that our nation was built upon—values of democracy, diversity, and inclusivity. It is a day to honor the principles of justice, equality, and freedom for all.

In schools, colleges, and communities, people hoist the national flag, sing the national anthem, and participate in cultural programs. The tricolor flag, with its saffron symbolizing courage, white symbolizing peace, and green symbolizing growth, serves as a symbol of our identity and aspirations.

As we celebrate Independence Day, we also pay tribute to the sacrifices of our freedom fighters and express our gratitude for the peace and democracy we enjoy today. It is a day to renew our commitment to building a stronger, more prosperous, and inclusive India.

15 August Essay 3 – 300 Words

Independence Day, celebrated on 15th August, is one of the most significant national holidays in India. This day marks the end of British colonial rule in 1947 and the birth of a free and independent India. The importance of Independence Day lies in its role as a symbol of our hard-fought struggle for freedom and the values we hold dear as a nation.

On Independence Day, the entire country comes together in celebration. The day begins with the hoisting of the national flag at various government buildings, schools, and public places. The tricolor flag, with its saffron, white, and green stripes, stands as a proud emblem of our nation’s unity and diversity.

Patriotic fervor fills the air as people gather to sing the national anthem, “Jana Gana Mana.” Cultural events, parades, and processions are organized across the country to showcase India’s rich heritage and diversity. These celebrations remind us of the unity in diversity that defines our nation.

Independence Day also serves as a reminder of our responsibility to protect and uphold the values of democracy, justice, and equality. It’s a time to reflect on the progress we’ve made as a nation and the challenges that lie ahead. It calls upon every citizen to contribute to the growth and development of our country.

Moreover, Independence Day is a day of tribute to our brave freedom fighters who sacrificed their lives for our freedom. Their unwavering dedication and sacrifices continue to inspire us to strive for a better India.

In conclusion, Independence Day is not just a day off from work or school; it’s a day of reflection, celebration, and commitment to the ideals that make India a thriving democracy. It’s a day to cherish our freedom, honor our heritage, and work together for a brighter future.

15 August Essay 4 – 500 Words

Independence Day: Celebrating Freedom on 15th August

India, the land of diverse cultures, languages, and traditions, celebrates its Independence Day on the 15th of August with great pride and enthusiasm. This day holds immense significance in the hearts of every Indian as it marks the end of British colonial rule and the dawn of a new era of freedom and self-governance.

The story of India’s struggle for independence is a saga of unwavering determination, sacrifice, and unity. For nearly two centuries, the Indian subcontinent endured the hardships of British colonialism. However, the spirit of resistance against foreign rule never wavered. Brave souls like Mahatma Gandhi, Jawaharlal Nehru, Sardar Patel, and countless others led the nation’s fight for freedom. Their dedication, non-violent protests, and sacrifices eventually led to the momentous day of 15th August 1947 when India finally achieved independence.

Independence Day is celebrated with great fervor and patriotism throughout the country. The day begins with the hoisting of the tricolor national flag at schools, government offices, and public places. The national anthem, “Jana Gana Mana,” resonates in the air as people gather to sing it with pride. This moment symbolizes the unity and diversity of India, as people from different backgrounds come together to honor their motherland.

Cultural diversity is one of India’s greatest strengths, and Independence Day celebrations reflect this beautifully. Cultural programs, parades, and processions take place in various parts of the country. These events showcase India’s rich heritage, traditions, and artistic expressions. People of all ages participate, donning traditional attire and performing folk dances, songs, and plays that highlight the cultural mosaic of India.

Independence Day is not just a day to remember the past; it’s an occasion to reflect on the values and principles that our nation stands for. Democracy, justice, equality, and freedom are the cornerstones of India’s identity. This day serves as a reminder of our collective responsibility to protect and uphold these principles in our daily lives.

Moreover, Independence Day is an opportunity to express gratitude to the countless freedom fighters who sacrificed their lives for the nation’s freedom. Their unwavering commitment and sacrifices inspire generations to come and remind us that the price of freedom is eternal vigilance.

As the tricolor flag unfurls and patriotic songs echo, the spirit of Independence Day ignites a sense of pride and unity among Indians. It transcends linguistic, regional, and cultural differences, bringing people together as one nation. The celebrations are a testament to the enduring spirit of the Indian people and their commitment to a brighter future.

In conclusion, Independence Day is not just a national holiday; it’s a day of reflection, celebration, and commitment. It’s a day to cherish the hard-earned freedom, honor the sacrifices of our forefathers, and work together for the progress and prosperity of our beloved India. It’s a day when the nation stands tall, united in its diversity, and reaffirms its commitment to the values that define the essence of India.

Take free test

FAQs on 15 August Essay

What is the significance of 15th august in india.

15th August is celebrated as Independence Day in India, marking the end of British colonial rule in 1947 and the country's freedom.

Why is 15th August called Independence Day?

15th August is called Independence Day because it commemorates India's independence from British rule and the beginning of self-governance.

How do Indians celebrate Independence Day?

Indians celebrate Independence Day by hoisting the national flag, singing the national anthem, participating in cultural events, and reflecting on the values of freedom and democracy.

Why is the Indian national flag hoisted on Independence Day?

The Indian national flag is hoisted on Independence Day as a symbol of the country's sovereignty and unity.

Why is Independence Day important for Indians?

Independence Day is important for Indians because it serves as a reminder of their hard-fought freedom, the sacrifices of their ancestors, and their commitment to a democratic and just society.

What are some popular Independence Day traditions in India?

Popular Independence Day traditions in India include flag hoisting ceremonies, patriotic songs, cultural programs, and parades.

Related content

Call Infinity Learn

Talk to our academic expert!

Language --- English Hindi Marathi Tamil Telugu Malayalam

Get access to free Mock Test and Master Class

Register to Get Free Mock Test and Study Material

Offer Ends in 5:00

HindiKhojijankari

स्वतंत्रता दिवस पर निबंध 300 शब्द, 500 शब्दों में, 15 अगस्त पर निबंध हिंदी में कैसे लिखें? | 15 August 76th Independence Day Essay in Hindi

स्वतंत्रता दिवस पर निबंध 15-August-Essay-on-Independence-Day-in-Hindi

स्वतंत्रता दिवस पर निबंध 100 शब्द, 150 शब्द 200 शब्द, 250 शब्द, 600 शब्द, 1000 शब्द में, 15 अगस्त पर निबंध हिंदी में (15 August essay in hindi 10 lines, Independence Day Essay In Hindi, 10 Lines 100 Words, 150 Words, 300 Words, 500 Words )

स्वतंत्रता दिवस पर निबंध: 15 अगस्त 1947 का दिन वह स्वर्णिम दिन था जब भारत को अंग्रेजों से स्वतंत्रता मिली थी। भारत को मिली आजादी भारतीय वीर सपूतों और शहीदों के बलिदान का प्रतीक है।

हमारा भारत लगभग 200 साल तक गुलामी की बेड़ियों में जकड़ा रहा लेकिन सन 1947 में आखिरकार भारतीय क्रांतिकारियों ने इन गुलामी की बेड़ियों को तोड़ दिया और हम आज़ाद हो गए।

15 अगस्त 1947 को जब हमें यह आज़ादी मिली तब तक देश के न जाने कितने महान सपूतों ने अपनी मातृभूमि की रक्षा के लिए अपने प्राणों की आहुति दे दी थी।

लेकिन उनका यह बलिदान कभी व्यर्थ नहीं गया आखिरकार उनकी तपस्या त्याग एवं समर्पण की बदौलत अंग्रेजों को यह देश छोड़ने पर मजबूर होना पड़ा।

आखिरकार 15 अगस्त 1947 का यह दिन भारतीय स्वतंत्रता का दिन बन पाया। तभी से प्रत्येक वर्ष 15 अगस्त का दिन भारतीय स्वतंत्रता दिवस के रूप में मनाया जाता है।

इस दिन न केवल भारत की आजादी बल्कि भारत भूमि के लिए अपने प्राणों की आहुति देने वाले देश के महान सपूतों को भी याद किया जाता है तथा उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की जाती है।

15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस के इस खास मौके पर विभिन्न शैक्षणिक संस्था सरकारी एवं गैर सरकारी संस्थाओं द्वारा विभिन्न प्रकार के कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं।

इन विभिन्न कार्यक्रम में स्वतंत्रता दिवस पर भाषण , 15 अगस्त पर निबंध एवं स्वतंत्रता दिवस पर शायरी कविता लेखन प्रतियोगिताएं आयोजित की जाती है।

आज इस लेख में हम आपके लिए स्वतंत्रता दिवस पर निबंध लेकर आए हैं ताकि आप 15 अगस्त पर निबंध हिंदी में आसानी पूर्वक लिख सकें।

Join Our WhatsApp Group hindikhojijankari

विषय–सूची

15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस पर निबंध (Independence Day Essay In Hindi) –

प्रस्तावना – 15 अगस्त का दिन हर साल भारतीय स्वतंत्रता दिवस के रूप में मनाया जाता है।

15 अगस्त 1947 के दिन ही हमारा भारत अंग्रेजी शासन के चंगुल से आजाद हुआ था इसीलिए 15 अगस्त का यह ऐतिहासिक दिन प्रति वर्ष स्वतंत्रता दिवस के तौर पर मनाया जाने लगा।

भारत तकरीबन 200 सालों तक ब्रिटिश हुकूमत के अधीन रहा लेकिन 15 अगस्त 1947 को वह स्वर्णिम पल आया जब भारत ब्रिटिश शासन से पूरी तरह मुक्त हो गया।

आजाद होने के बाद हमारे देश ने विश्व स्तर पर अपनी एक नई पहचान बनाई है तथा आज विश्व गुरु के रूप में पूरी दुनिया का मार्गदर्शन कर रहा है।

15-August-Independence Day Essay in Hindi

भारतीय स्वतंत्रता दिवस का इतिहास–

15 अगस्त 1947 के दिन ही भारत आजाद हुआ था लेकिन भारतीय स्वतंत्रता संग्राम की लड़ाई का इतिहास बहुत पुराना है।

अंग्रेजों ने लगभग 200 साल तक भारत पर शासन किया। ब्रिटिश शासन के दौरान सभी भारतीयों का जीवन बेहद संघर्ष भरा रहा।

ब्रिटिश हुकूमत के लोग भारतीय राजा एवं शासकों को अपने हाथ की कठपुतली बना कर उनका इस्तेमाल कर रहे थे।

किसी नेतृत्व के अभाव में भारतीय लोगों को गुलामी की जिंदगी बितानी पड़ी और अंग्रेज लगातार 200 सालों तक भारतीयों का शोषण करते रहे।

गुलामी के उसे दौर में अंग्रेज यहां के मजदूरों से बंधुआ मजदूरी करवा कर विदेशी निर्यात से मुनाफा कमाते थे। लेकिन इसी बीच एक ऐसा दौर भी आया जब भारतीय स्वतंत्रता सेनानी क्रांतिकारियों ने देश के लिए आवाज उठानी शुरू की।

सन 1857 में भारत का पहला क्रांतिकारी विद्रोह हुआ और दिन प्रतिदिन यह विरोध बढ़ता ही गया।

आखिरकार भारत के महान सपूतों की तपस्या त्याग और बलिदान की बदौलत भारत 1947 में आजाद हो गया।

सन 1857 से लेकर सन 1947 तक भारत संघर्षों की चरम सीमा से होकर गुजरा लेकिन फिर भी भारतीय क्रांतिकारियों ने हार नहीं मानी और आखिरकार अंग्रेजी सरकार को उनके सामने घुटने टेकने पड़े।

इन्हें भी पढ़ें-

  • 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस पर भाषण
  • आजादी का अमृत महोत्सव पर निबंध, कविता, स्लोगन, अनमोल वचन
  • 26 जनवरी राष्ट्र को समर्पित कविता, अनमोल विचार
  • भारतीय सेना को समर्पित कविताएं और शुभकामना संदेश
  • अमर जवान ज्योति का इतिहास व महत्व
  • नेताजी सुभाष चंद्र बोस के क्रांतिकारी नारे एवं विचार
  • शहीद दिवस पर शायरी एवं सुविचार

स्वतंत्रता दिवस का महत्व–

15 अगस्त का दिन केवल भारतीय स्वतंत्रता का ही प्रतीक नहीं है बल्कि यह भारतीय स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के समर्पण का प्रतीक भी है।

भारतीय स्वतंत्रता संग्राम की ज्वाला में पता नहीं कितने भारतीय क्रांतिकारियों ने अपने प्राणों की आहुति दे दी थी तब जाकर आज हम स्वतंत्रता दिवस मना पा रहे हैं।

हमें भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में उन वीरों की शहादत कभी भी नहीं भूलनी चाहिए। भारत के इन महान क्रांतिकारियों में शहीद भगत सिंह, चंद्रशेखर आजाद, सुखदेव, राजगुरु, अशफाक उल्ला खान, लाला लाजपत राय सुभाष चंद्र बोस, बाल गंगाधर तिलक आदि जैसे कई महान क्रांतिकारियों का नाम शामिल है।

इन सभी भारतीय क्रांतिकारियों ने अपनी मातृभूमि की आजादी के लिए ब्रिटिश शासन से लोहा लिया तथा खुशी-खुशी अपने प्राणों की बलि दे दी थी।

इसीलिए 15 अगस्त 1947 का दिन केवल स्वतंत्रता प्राप्ति का दिन नहीं था बल्कि वह उस तपस्या उस त्याग उस बलिदान का फल था जिसका भारतीय क्रांतिकारियों ने बीज रोपण किया था।

इस स्वतंत्रता दिवस के उपलक्ष में प्रति वर्ष विभिन्न प्रकार के कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं तथा भारत के वीर स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों को श्रद्धांजलि अर्पित की जाती है। तथा उनके योगदान के विषय में सभी लोगों को अवगत कराया जाता है।

भारतीय स्वतंत्रता दिवस की गतिविधियां एवं कार्यक्रम–

भारतीय स्वतंत्रता दिवस के उपलक्ष में हर साल देश में विभिन्न प्रकार के कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं तथा बड़ी धूमधाम एवं हर्षोल्लास के साथ भारत का स्वाधीनता दिवस मनाया जाता है।

भारतीय स्वतंत्रता दिवस के इस खास मौके पर विद्यालय कॉलेज तथा विश्वविद्यालय में स्वतंत्रता दिवस पर निबंध लेखन, स्वतंत्रता दिवस 15 अगस्त पर भाषण तथा कविता स्लोगन इत्यादि लेखन के विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं।

इस दिन स्कूल कॉलेज विश्वविद्यालय सरकारी तथा कई गैर सरकारी संगठनों द्वारा झंडारोहण का कार्यक्रम आयोजित किया जाता है तथा झंडारोहण करके राष्ट्रगान तथा राष्ट्रगीत पढ़ा जाता है।

स्वतंत्रता दिवस के मौके पर भारतीय प्रधानमंत्री द्वारा लाल किले पर भारत का राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा फहराया जाता है तथा राष्ट्र गान किया जाता है।

इन सब के अलावा भारत की जल सेना थल सेना तथा नभ सेना विभिन्न प्रकार के कौशल का प्रदर्शन किया जाता है तथा परेड आदि भी आयोजित किया जाता है।

केवल इतना ही नहीं स्वतंत्रता दिवस के इस  खास मौके पर भारतीय प्रधानमंत्री राष्ट्रपति तथा विभिन्न राजनेताओं द्वारा भारत के वीर शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की जाती है।

स्वतंत्रा दिवस के इस पर्व पर विभिन्न प्रकार के सांस्कृतिक कार्यक्रम जैसे भारतनाट्यम, शास्त्रीय संगीत, चित्रकला इत्यादि का आयोजन भी किया जाता है।

स्वतंत्रता दिवस मनाने का उद्देश्य–

भारतीय स्वतंत्रता दिवस मनाने का उद्देश्य यही है कि भारत के लोग अपनी स्वतंत्रता प्राप्ति का वह अनमोल स्वर्णिम दिन याद रख सकें तथा उन शहीदों को भी याद रखें जिन्होंने भारत की आजादी के लिए अपना सर्वस्व बलिदान किया था।

साथ ही साथ प्रतिवर्ष स्वतंत्रता दिवस पर विभिन्न कार्यक्रमों का यह भी उद्देश्य होता है कि भारत के लोगों के बीच नवचेतना जागृत की जा सके ताकि भारतीय लोग आने वाले समय में बुलंदियों के नए शिखर पर पहुंच जाएं।

यह स्वतंत्रता दिवस हमें यह भी सचेत करता है कि आने वाले समय में हमें इस राष्ट्र इस मातृभूमि की रक्षा किस तरह करनी है।

भारतीय स्वतंत्रता दिवस आजादी के बाद इस देश की उपलब्धि पर गर्व करने का दिन है। आजादी के बाद भारत ने दुनिया में अपनी एक नई पहचान बनाई है।

आज पूरी दुनिया भारतीय सिद्धांतों का अनुसरण करती है तथा इस देश इस मिट्टी का सम्मान भी करती है।

आज अमेरिका रूस फ्रांस चीन जर्मनी और जापान जैसे विकसित देश भी भारत के फैसले का सम्मान करते हैं और सुझाव मांगते हैं।

उपसंहार –

सन 1947 में जब भारत को स्वतंत्रता प्राप्त हुई तभी से फूलने फैलने का बढ़िया अवसर मिला और भारत ने इसका भरपूर इस्तेमाल किया तथा सार्थकता पूर्वक विश्वास स्तर पर नए-नए मुकाम हासिल किए।

आजादी का यह दिन उन भारतीय क्रांतिकारियों की कठोर तपस्या का फल है जिन्होंने जीते जी अपना सर्वस्व इस मातृभूमि के नाम कर दिया और जब अंत में कुछ नहीं बचा तो अपने प्राणों की आहुति दे दी।

हमें कभी भूल कर भी देश की आजादी में शामिल इन महान क्रांतिकारियों का अपमान नहीं करना चाहिए। उनकी देशभक्ति और उनकी प्रतिमा हमें सदैव अपने मन में ताकि हमारे मन में भी राष्ट्रभक्ति की भावना जाग सके।

अगर आप 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस पर निबंध हिंदी में 10 लाइन की लिखना चाहते हैं तो निम्नलिखित निबंध द्वारा तैयार कर सकते हैं।

स्वतंत्रता दिवस पर निबंध 100,150, शब्दों में।

नमस्कार दोस्तों!

आज भारतीय इतिहास की वह तारीख है जिस दिन भारत को आजादी मिली थी।

आज ही के दिन 1947 में हमारा भारत देश ब्रिटिश हुकूमत के शासन से आजाद हुआ था इसीलिए प्रतिवर्ष 15 अगस्त का यह स्वर्णिम दिन हमारी स्वतंत्रता दिवस के रूप में मनाया जाता है।

हमारा यह 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस हमारी आजादी का प्रतीक है। यह हमें सिखाता है कि हम सामाजिक राजनीतिक आर्थिक सभी रूप से आजाद हैं।

लेकिन जब तक भारत पर ब्रिटिश हुकूमत का शासन था तब तक हमें कोई आजादी नहीं थी। ब्रिटिश राज में भारतीयों के साथ दुर्व्यवहार किया जाता था और उनका शोषण भी किया जाता था।

लेकिन आज का यह भारत किसी भी शक्ति महाशक्ति के अधीन नहीं है बल्कि अपनी शक्ति से चलता है। आज भारत का एक-एक नागरिक भारतीय गणराज्य में आस्था के अपने अधिकारों का संरक्षण कर रहा है।

आजादी की इसी भावना को हमेशा जीवंत रखने के लिए 15 अगस्त भारतीय स्वतंत्रता दिवस आजादी का अमृत महोत्सव के रूप में मनाया जा रहा है।

आइए आज 15 अगस्त कैसे खास अवसर पर भारतीय तिरंगे को सलाम करते हैं और उन शहीदों को भी नमन तथा याद करते हैं जिन्होंने भारत की आजादी के लिए अपने प्राण गवा दिए थे।

इसी के साथ मैं अपनी वाणी को विराम देता हूं और ईश्वर से प्रार्थना करता हूं कि हमारा भारत ऐसे ही फूलता फलता रहे और दुनियां को नेकी की राह दिखाए।

15 अगस्त पर निबंध हिंदी में 10 लाइन  (15 August Essay In Hindi 10 Lines)–

  • 15 अगस्त के दिन प्रतिवर्ष भारतीय स्वतंत्रता दिवस मनाया जाता है।
  • 15 अगस्त 1947 को हमारा भारत अंग्रेजी शासन से आजाद हुआ था।
  • ब्रिटिश हुकूमत ने भारत पर तकरीबन 200 सालों तक राज किया। उनकी विभाजन की नीति के कारण ही स्वतंत्रता के दौरान भारत का विभाजन हो गया और हिंदुस्तान तथा पाकिस्तान दो देश बने।
  • 15 अगस्त के दिन प्रतिवर्ष भारतीय स्वतंत्रता दिवस के उपलक्ष में लाल किले पर भारतीय प्रधानमंत्री द्वारा झंडा रोहण किया जाता है तथा सभी लोग राष्ट्रगान का पाठ करते हैं।
  • स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या भारतीय राष्ट्रपति द्वारा राष्ट्र के नाम संबोधन किया जाता है जबकि स्वतंत्रता दिवस के दिन प्रधानमंत्री भी राष्ट्र को संबोधित करते हैं।
  • स्वतंत्रता दिवस का कार्यक्रम सरकारी तथा गैर सरकारी संगठनों समेत विद्यालय कालेज तथा विश्वविद्यालयों में भी आयोजित किया जाता है।
  • स्वतंत्रता दिवस के उपलक्ष में ही प्रधानमंत्री की उपस्थिति के दौरान भारतीय थल सेना जल सेना तथा वायु सेना द्वारा अपना कौशल दिखाया जाता है तथा परेड किया जाता है।
  • स्वतंत्रता दिवस के मौके पर इस देश के लिए बलिदान हुए महान क्रांतिकारियों एवं सैनिकों को श्रद्धांजलि अर्पित की जाती हैं।
  • स्वतंत्रता दिवस पर लाल किले पर झंडा रोहण के दौरान प्रधानमंत्री अपने दिए गए भाषण में भारत की उपलब्धियां गिनाते हैं। तथा नए भारत की नई उपलब्धियों के लिए संकल्प भी लेते हैं।
  • स्वतंत्रता दिवस के दिन सभी लोग आपसी मतभेद को भूल कर एक दूसरे के साथ गले मिलते हैं तथा मिठाइयां बांटकर स्वतंत्रा दिवस की खुशियां मनाते हैं।

तो दोस्तों हमने आज इस आर्टिकल में आप को स्वतंत्रता दिवस पर निबंध के बारे में बताया। स्वतंत्रता दिवस पर निबंध के इस लेख के माध्यम से हमने आपको 10 लाइन का निबंध भी उपलब्ध कराया। उम्मीद करते हैं कि हमारा यह लेख आपको पसंद आया।

Leave a Comment Cancel reply

Save my name, email, and website in this browser for the next time I comment.

CollegeDekho

Frequently Search

Couldn’t find the answer? Post your query here

  • अन्य आर्टिकल्स

15 अगस्त पर हिंदी में भाषण (15 August Speech In Hindi): स्वतंत्रता दिवस पर 500 शब्दों में भाषण

Updated On: March 07, 2024 12:44 pm IST

स्वतंत्रता दिवस पर भाषण (Independence Day Speech)  

  • 15 अगस्त पर 500 शब्दों में भाषण (Swatantrata Diwas par …

स्वतंत्रता दिवस पर हिंदी में भाषण

15 अगस्त पर 500 शब्दों में भाषण (Swatantrata Diwas par Hindi me Bhashan)

Are you feeling lost and unsure about what career path to take after completing 12th standard.

Say goodbye to confusion and hello to a bright future!

15 अगस्त पर हिंदी में भाषण देने या लिखने से पहले आपको समझना होगा कि आप कहां भाषण दे रहे हैं। आप अगर स्कूल में भाषण दे रहे हैं तो आदरणीय अध्यापक, अभिभावक जैसे शब्दों के साथ शुरुआत कर सकते हैं। इसके बाद आजादी का महत्व और इतिहास के बारे में लिखें। इसमें उन महापुरुषों की जीवनी को भी शामिल कर सकते हैं, जिन्होंने आजादी के लिए अपना अमूल्य योगदान दिया है।

क्या यह लेख सहायक था ?

सबसे पहले जाने.

लेटेस्ट अपडेट प्राप्त करें

क्या आपके कोई सवाल हैं? हमसे पूछें.

24-48 घंटों के बीच सामान्य प्रतिक्रिया

व्यक्तिगत प्रतिक्रिया प्राप्त करें

बिना किसी मूल्य के

समुदाय तक पहुंचे

समरूप आर्टिकल्स

  • लेक्चरर बनने के लिए करियर पथ (Career Path to Become a Lecturer): योग्यता, प्रवेश परीक्षा और पैटर्न
  • KVS एडमिशन लिस्ट 2024-25 (प्रथम, द्वितीय, तृतीय) की जांच कैसे चेक करें (How to Check KVS Admission List 2024-25How to Check KVS Admission List 2024-25 (1st, 2nd, 3rd): डायरेक्ट लिंक, लेटेस्ट अपडेट, क्लास 1 उच्च कक्षा के लिए स्टेप्स
  • 2024 के लिए भारत में फर्जी विश्वविद्यालयों की नई लिस्ट (Fake Universities in India): कहीं भी एडमिशन से पहले देख लें ये सूची
  • 100% जॉब प्लेसमेंट वाले टॉप इंस्टिट्यूट (Top Institutes With 100% Job Placements): हाई पैकेज, टॉप रिक्रूटर यहां दखें
  • हरियाणा पॉलिटेक्निक परीक्षा 2024 (Haryana Polytechnic Exam 2024): यहां चेक करें संबंधित तारीखें, परीक्षा पैटर्न और काउंसलिंग प्रोसेस
  • यूपी पुलिस सिलेबस 2024 (UP Police Syllabus 2024 in Hindi) - सिपाही, हेड कांस्टेबल भर्ती पाठ्यक्रम हिंदी में देखें

नवीनतम आर्टिकल्स

  • मदर्स डे पर निबंध (Mothers Day Essay in Hindi): मातृ दिवस पर हिंदी में निबंध
  • 10वीं के बाद डिप्लोमा कोर्स (Diploma Courses After 10th): मैट्रिक के बाद बेस्ट डिप्लोमा कोर्स, एडमिशन, फीस और कॉलेज की लिस्ट देखें
  • पर्यावरण दिवस पर निबंध (Essay on Environment Day in Hindi) - विश्व पर्यावरण दिवस पर हिंदी में निबंध कैसे लिखें
  • भारत में पुलिस रैंक (Police Ranks in India): बैज, स्टार और वेतन वाले पुलिस पद जानें
  • जेएनवीएसटी रिजल्ट 2024 (JNVST Result 2024): नवोदय विद्यालय कक्षा 6वीं और 9वीं का रिजल्‍ट
  • 10वीं के बाद सरकारी नौकरियां (Government Jobs After 10th) - जॉब लिस्ट, योग्यता, भर्ती और चयन प्रक्रिया की जांच करें
  • 10वीं के बाद आईटीआई कोर्स (ITI Courses After 10th in India) - एडमिशन प्रोसेस, टॉप कॉलेज, फीस, जॉब स्कोप जानें
  • यूपीएससी सीएसई मेन्स पासिंग मार्क्स 2024 (UPSC CSE Mains Passing Marks 2024)
  • 12वीं और ग्रेजुएशन के बाद भारत में टॉप प्रोफेशनल कोर्सेस की लिस्ट (List of Top Professional Courses in India after 12th and Graduation in Hindi)

नवीनतम समाचार

  • MP Board 10th Toppers 2024 List Available: MPBSE 10वीं के डिस्ट्रिक्ट वाइज टॉपर्स की लिस्ट देखें

ट्रेंडिंग न्यूज़

यूपी के लिए नीट 2024 कटऑफ (NEET 2024 Cutoff for UP in Hindi): एआईक्यू और स्टेट कोटा सीटें

Subscribe to CollegeDekho News

  • Select Stream Engineering Management Medical Commerce and Banking Information Technology Arts and Humanities Design Hotel Management Physical Education Science Media and Mass Communication Vocational Law Others Education Paramedical Agriculture Nursing Pharmacy Dental Performing Arts
  • Select Program Type UG PG Diploma Ph.D Certificate

कॉलेजदेखो के विशेषज्ञ आपकी सभी शंकाओं में आपकी मदद कर सकते हैं

  • Enter a Valid Name
  • Enter a Valid Mobile
  • Enter a Valid Email
  • Select Level UG PG Diploma Ph.D Certificate
  • By proceeding ahead you expressly agree to the CollegeDekho terms of use and privacy policy

शामिल हों और विशेष शिक्षा अपडेट प्राप्त करें !

Details Saved

15 august easy essay in hindi

Your College Admissions journey has just begun !

Try our AI-powered College Finder. Feed in your preferences, let the AI match them against millions of data points & voila! you get what you are looking for, saving you hours of research & also earn rewards

For every question answered, you get a REWARD POINT that can be used as a DISCOUNT in your CAF fee. Isn’t that great?

1 Reward Point = 1 Rupee

Basis your Preference we have build your recommendation.

  • All Calculators
  • Algebra Calculator
  • Equation Solver
  • Graphing Calculator
  • Elimination Calculator – Solve System of Equations with
  • Derivative Calculator
  • Absolute Value Equation Calculator
  • Adding Fractions Calculator
  • Factoring Calculator
  • Fraction Calculator
  • Inequality Calculator
  • Mixed Number Calculator
  • Percentage Calculator
  • Quadratic Equation Solver
  • Quadratic Formula Calculator
  • Scientific Notation Calculator
  • Simplify Calculator
  • System of Equations Calculator
  • Class 12 Maths Notes
  • Class 12 Chemistry Notes
  • Class 12 Physics Notes
  • Class 12 Accountancy Notes
  • Class 12 Biology Notes
  • Class 12 Maths ( English Medium)
  • Class 12 Maths ( Hindi Medium)
  • Class 12 Physics (English Medium)
  • Class 12 Physics (Hindi Medium)
  • Class 12 Chemistry ( Hindi Medium)
  • Class 12 Chemistry ( English Medium)
  • Class 12 Biology ( English Medium)
  • Class 12 Biology ( Hindi Medium)
  • Class 12 Geography (Hindi Medium)
  • Class 12 History (Hindi Medium)
  • NCERT Class 12 Accountancy
  • TS Grewal Accountancy Class 12
  • Class 12 Hindi Core
  • Class 12 Psychology
  • TS Grewal Class 11 Accountancy
  • Class 11 Maths
  • Class 11 Economics (Hindi Medium)
  • Class 11 Sociology (Hindi Medium)
  • Class 11 History (इतिहास)
  • Class 11 Geography (Hindi Medium)
  • Class 11 Hindi
  • Class 10 Science (English Medium)
  • Class 10 Science (Hindi Medium)
  • Class 10 Maths (English Medium)
  • Class 10 Maths (Hindi Medium)
  • Class 10 Social Science (English Medium)
  • Class 10 Social Science (Hindi Medium)
  • Class 10 English
  • Class 10th Sanskrit
  • Class 10 Foundation of Information Technology
  • Class 10 Hindi Sanchayan
  • Class 10 Hindi Sparsh
  • Class 10 Hindi Kshitij
  • Class 10 Hindi Kritika
  • Class 9 English
  • Class 9 Social Science in English Medium
  • Class 9 Maths (Hindi Medium)
  • Class 9 Maths (English Medium)
  • Class 9 Science (Hindi Medium)
  • Class 9 Social Science History in Hindi Medium
  • Class 9 Social Science Geography in Hindi Medium
  • Class 9 Social Science Civics in Hindi Medium
  • Class 9 Social Science Economics in Hindi Medium
  • Class 8 Social Science in Hindi Medium
  • Class 8 Science
  • Class 8 English
  • Class 8th Hindi
  • Class 8 Social Science
  • Class 8 Maths
  • Class 7 English
  • Class 7 Hindi
  • Class 7 Maths
  • Class 7 Science
  • Class 7 Social Science
  • Class 7 Sanskrit
  • Class 7 Social Science in Hindi Medium
  • Class 6th English
  • Class 6 Science
  • Class 6 Social Science in Hindi Medium
  • Class 6 Hindi
  • Class 6 Maths ( English Medium)
  • Class 5 Maths
  • Class 5 Hindi
  • Class 5 English
  • Class 5 EVS
  • Class 5 पर्यावरण
  • Class 4 Maths
  • Class 4 EVS
  • Class 4 Hindi
  • Class 4 English
  • Class 4 paryavarana adhyayan
  • Class 3 Maths
  • Class 3 EVS
  • Class 3 English
  • Class 3 Hindi
  • Class 3 Paryavaran Adhyayan
  • Accounting in Hindi
  • Python Programs

15 अगस्त पर निबंध – 15 August Essay in Hindi

रूपरेखा : प्रस्तावना – स्वतंत्रता कैसे मिली – यह पर्व कैसे मनाते हैं – दिल्ली की रौनक – सामाजिक कार्यक्रम – 15 अगस्त मनाना क्यों जरूरी है – उपसंहार।

15 अगस्त का दिन हमारे देश के इतिहास में अत्यंत गौरवमय दिवस है। सन 1947 में इसी दिन हमारा देश अंग्रेजों की पराधीनता से स्वतंत्र हुआ था। 15 अगस्त, 1947 को अनमोल प्रकाश लेकर सूर्योदय हुआ था और भारत की कोटि कोटि जनता स्वतंत्रता की मस्ती में झूम उठी थी। इसलिए 15 अगस्त को हम अपने मुक्तिपर्व के रूप में मनाते हैं।

स्वतंत्रता कैसे मिली

स्वतंत्रता के लिए भारतमाता के लाखों सपूतों ने तरह-तरह के कष्ट सहे थे। मातृभूमि की आजादी के लिए भगतसिंह जैसे हजारों शेरदिल जवान हँसते-हँसते फाँसी के तख्ते पर चढ़ गए थे। लोकमान्य टिलक ने घोषणा की थी ‘स्वतंत्रता हमारा जन्मसिद्ध अधिकार है और उसे हम लेकर ही रहेंगे।’ टिलक के इन जादूभरे शब्दों ने भारतीय जनता के स्वाभिमान को जगा दिया। सन 1942 में गाँधीजी ने ‘करो या मरो’ का नारा लगाया। इससे प्रभावित होकर कोटि-कोटि भारतवासी देश के लिए मर मिटने को तैयार हो गए।

यह पर्व कैसे मनाते हैं

15 अगस्त हमारा राष्ट्रीय पर्व है। इस दिन सार्वजनिक अवकाश रहता है। सुबह देशभर में जगह-जगह ध्वजवंदन के कार्यक्रम होते हैं। स्कूलों और कालेजों में तिरंगा फहराया जाता है। ‘जन-गण-मन’ की ध्वनि से वातावरण गूंज उठता है। गाँव-गाँव और शहर-शहर इस मुक्तिपर्व के रंग में रंग जाते हैं। सभी सरकारी विभाग इस दिन ध्वजवंदन समारोह का आयोजन करते हैं।

दिल्ली की रौनक

देश की राजधानी दिल्ली में 15 अगस्त की रौनक देखते ही बनती है। सबेरे हजारों दिल्लीवासी लाल किले के मैदान में एकत्र होते हैं। हमारे प्रधानमंत्री लाल किले पर में राष्ट्रध्वज फहराते हैं और देशवासियों को 15 अगस्त की बधाई देते हैं। विविध प्रांतों की राजधानियों में वहाँ के मुख्यमंत्रियों की उपस्थिति में 15 अगस्त मनाया जाता है।

सामाजिक कार्यक्रम

15 अगस्त देश के लोगों में राष्ट्रप्रेम की ज्योति जलाता है। सामाजिक संस्थाएँ इस दिन तरह-तरह के सुंदर कार्यक्रम प्रस्तुत करती हैं। शहीदों की याद में भिन्न-भिन्न कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। शहरों में कवि-सम्मेलनों का आयोजन होता है। इनमें देशप्रेम, त्याग तथा बलिदान की प्रेरणा देने वाली कविताएँ सुनाई जाती हैं। आकाशवाणी और दूरदर्शन से भी ऐसे ही प्रेरक कार्यक्रम का प्रसारण किया जाता है। देशभक्तिपूर्ण फिल्में भी दिखाई जाती हैं।

15 अगस्त मनाना क्यों जरूरी है

15 अगस्त हमारी स्वतंत्रता की वर्षगाँठ है। इस दिन के कार्यक्रम देशवासियों राष्ट्रीयता का रंग भर देते हैं। यह दिन देश के लोगों को राष्ट्र के प्रति अपने कर्तव्यों की याद दिलाता है। प्रतिवर्ष उत्साहपूर्वक 15 अगस्त मनाने से राष्ट्र की एकता और अखंडत को नई शक्ति मिलती है।

सचमुच, 15 अगस्त भारतीय इतिहास का सुनहरा दिन है। इस दिन हमें अपने की अनमोल स्वतंत्रता और उसकी आन की रक्षा करने की प्रतिज्ञा लेनी चाहिए।

Share this:

  • Click to share on Twitter (Opens in new window)
  • Click to share on Facebook (Opens in new window)

Leave a Reply Cancel reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Save my name, email, and website in this browser for the next time I comment.

Notify me of follow-up comments by email.

Notify me of new posts by email.

NCERT & CBSE ALL SUBJECT

Recent posts.

  • what is ssc cgl
  • ssc full form
  • map of india rivers
  • what is standard form in algebra

©  2024 ncert books. 

  • 2023 में आने वाली फिल्में
  • Sarkari Yojana
  • Civil Servant
  • Businessman‍
  • Freedom Fighter
  • General Knowledge

15 august easy essay in hindi

स्वतंत्रता दिवस (Independence Day) पर निबंध | 15 August Essay In Hindi

स्वतंत्रता दिवस (15 अगस्त) पर निबंध, 100 शब्द, 200 शब्द, 250 शब्द, 300 शब्द, 500 शब्द, 800 शब्द, 10 लाइन, 20 लाइन (15 August Essay In Hindi, Independence Day, Class 2, Class 5class 3, Class 5, Class 7, Nibandh, Short Essay, Vrutant Lekhan, Writing )

15 August Essay In Hindi – 15 अगस्त हमारे देश भारत में हर साल धूम-धाम एवं हर्ष और उल्लास के साथ मनाये जाना वाला एक राष्ट्रीय पर्व है. 15 अगस्त 1947 के दिन हमारा देश ब्रिटिश हुकूमत की गुलामी से आज़ाद हुआ था. यह एक ऐतिहासिक दिन था जब 75 साल पहले भारत को आज़ादी मिली. देश की आजादी के पीछे कई स्वतंत्रता सेनानियों ने अपना बलिदान दिया. अपने प्राणों की परवाह न करते हुए अपना जीवन देश पर न्योछावर कर दिया. इन्हों कारणों से 15 अगस्त को सभी देशवासियों हर साल देश की आज़ादी को याद करते हुए उनके सम्मान में स्कूल, कॉलेज और सरकारी ऑफिस में राष्ट्रीय ध्वज फहराया जाता है.

आज के इस लेख में हम आपको स्वतंत्रता दिवस पर निबंध  ( 15 August Essay In Hindi ) बताने जा रहे है जिसे समझाना आपके लिए बेहद जरुरी है. यह जानकरी आपको स्कूल में आयोजित प्रतियोगिता में भाग लेकर उसे सुसज्जित करने में सहायता प्रदान करेगा.

15 August Essay In Hindi

Table of Contents

स्वतंत्रता दिवस पर निबंध  (15 August Essay In Hindi)

अंग्रेजो की गुलामी के बाद 15 अगस्त 1947 को भारत एक आज़ाद देश बना. तब से और हर वर्ष इस दिन को स्वतंत्रता दिवस के रूप में मनाया जाता है.

स्वतंत्रता दिवस पर निबंध 100 शब्द (Independence Day Essay 100 Words)

भारत के इतिहास में साल 1947, 15 अगस्त का दिन काफी महत्वपूर्ण है. यह दिन भारत के लिए काफी भाग्यशाली था जब कई स्वतंत्रता सेनानियों की कड़ी मेहनत और उनके खून और बलिदान की आहुति से देश आज़ाद हुआ. देश की आज़ादी में कई सेनानियों का अपना अहम योगदान रहा है. हम इनके इस योगदान को नही भूल सकते है.

भारत की आज़ादी के बाद जनता द्वारा पहले प्रधानमंत्री के रूप में पंडित जवाहरलाल नेहरू को चुना गया. जिनके द्वारा भारत की राजधानी दिल्ली के लाल किले पर राष्ट्रीय ध्वज फहराया गया था. यह पल भारतीयों के लिए बड़े गर्व का था. और इस दिन को हर साल भाषण, डांस और नाटक जैसे कार्यक्रम के साथ आयोजित किया जाता है.

स्वतंत्रता दिवस पर निबंध 200 शब्द (Independence Day Essay 200 Words)

15 अगस्त 1947 के दिन हमारा देश भारत ब्रिटिश हुकूमत की जंजीरों से पूर्ण रूप से मुक्त होकर एक स्वतंत्र राष्ट्र बना. इस दिन कई स्वतंत्रता सेनानियों की कड़े संघर्ष के बाद भारत को आज़ादी प्राप्त हुई. तक़रीबन 200 साल तक भारत में अंग्रेजो का राज था. इन 200 सालो में कई क्रांतिकारियों ने ब्रिटिश हुकूमत के खिलाफ कई बार क्रांति का बिगुल बजाया.

भले ही अंग्रेजो ने भारत पर 200 सालो तक शासन किया लेकिन कुछ समय के बाद शांति से अपना शासन नही कर सके. उन्हें कभी न कभी स्वतंत्रता सेनानियों का विद्रोह का सामना करना पड़ा. लेकिन अंग्रेजी सरकार ने भी हमारे देश के कई क्रांतिकारियों को गिरफ्त में लेकर उन्हें कड़ी यातनाए दी और दण्डित किया. लेकिन इनके योगदान और लंबे संघर्ष की वजह से 15 अगस्त 1947 के दिन अंतत हमारा देश आज़ाद हुआ.

  • हर घर तिरंगा सर्टिफिकेट डाउनलोड कैसे करे
  • स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं संदेश

इस दिन सम्पूर्ण देश में सभी देशवासी हर्ष और उल्लास के साथ यह पर्व मानते है. इसे राष्ट्रीय त्यौहार के रूप में भी मनाया जाता है. इस दिन सभी स्कूल, कॉलेज और सरकारी संस्थानों में राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा फहराया जाता है. इस दिन सभी बच्चे स्कूल और कॉलेज के सांस्कृतिक कार्यक्रमों का हिस्सा बनते है और नाटक, नृत्य और भाषण जैसे कार्यक्रम रखते जाते है.

स्वतंत्रता दिवस पर निबंध 300 शब्द (Independence Day Essay 300 Words)

15 अगस्त के दिन भारत के प्रधानमंत्री दिल्ली के लाल किला पर झंडा फहराते है. इसके बाद राष्ट्रगान गाया जाता है. और 21 तोपों के साथ सलामी दी जाती है. इसके पश्चात प्रधानमंत्री दिल्ली के लाल किले से पूरे देशवासियों को सम्बोधित करते है. इस दिन के अवसर पर वहा पर गणमान्य लोग और बच्चें उपस्थित रहते है. 15 अगस्त के दिन भारतीय सेना और एनसीसी कैडेट परेड करते है और अलग-अगल राज्यों की झांकिया निकलती है. बड़े और बच्चों द्वारा रंगारंग कार्यक्रम की प्रस्तुती होती है. हेलीकाप्टर से फूल बरसाए जाते है. देश के प्रधानमंत्री के द्वारा दिए जाने वाला भाषण और लाल किले पर आयोजित प्रोग्राम का लाइव प्रसारण दूरदर्शन और ऑनलाइन प्लेटफार्म पर किया जाता है. और हम सभी लोग इन प्रोग्राम को घर बैठकर आनंद से देखते है.

15 अगस्त का दिन बड़ा खास दिन है. इस दिन हमें आज़ादी मिली थी और इसके बाद हमें अभिमान होना चाहिए कि हमने स्वतंत्र भारत में जन्म लिया है. लेकिन स्वतंत्र भारत की आज़ादी हम यूँ ही नही प्राप्त हुई है. इसके पीछे कई क्रांतिकारियों का बलिदान है. जिनमे भगत सिंह , चंद्रशेखर आजाद , रानी लक्ष्मी बाई, मोहनदास करमचंद गांधी , सुभाष चंद्र बोस , वीर सावरकर, राजगुरु, मंगल पांडे और सुखदेव जैसे स्वतंत्रता सेनानी थे. इनके अलावा भी कई और क्रांतिकारियों का देश की आज़ादी में योगदान रहा था. इस दिन के अवसर पर हम सभी क्रांतिकारियों याद करते है. इन्ही की वजह से आज हम लोग चैन की साँस ले रहे है. ऐसे में सभी भारतीयों को पता है कि अंग्रजो ने किस तरह से भारत में रहकर लोगो का खून बहाए है और कितने अत्याचार किये है. उनके यह अत्याचार देशवासी कभी नही भूल सकेंगे. ऐसे में हम लोग राष्ट्रीय ध्वज का सम्मान करते हुए उनको सभी क्रांतिकारियों को याद करते है.

स्वतंत्रता दिवस पर निबंध 500 शब्द (Independence Day Essay 500 Words)

भारत में हर साल स्वतंत्रता दिवस 15 अगस्त 1947 को मनाया जाता है. यह आज़ादी हमें आधी रात में मिली थी. पहले स्वतंत्रता दिवस साल 1930 से लेकर साल 1947 तक मनाया जाता था. इसका फैसला वर्ष 1929 में इंडियन नेशनल कांग्रेस अधिवेशन में हुआ था. और इस अधिवेशन में पूर्ण स्वराज की घोषणा की थी. उस वक्त भारत में लॉर्ड माउंटबेटन का शासन हुआ करता था. और इन्होने भारत की आजादी के लिए 15 अगस्त का दिन चुना हुआ था. इस तारीख को चुनने का कारण यह भी है कि वर्ल्ड वॉर 2 यानि 15 अगस्त 1947 के दिन जापान की सेना ने अंग्रेजी हुकुमत के सामने आत्‍मसमर्पण कर दिया था. उस वक्त लॉर्ड माउंटबेटन सभी देशों की आर्मी की कमांडर थे. 3 जून की की बैठक में यह तय किया गया कि स्‍वतंत्रता का दिन 15 अगस्त होगा. और देश में सार्वजनिक रूप से इसकी घोषणा करने के बाद कई लोग इस तारीख से खासा नाराज़ हो गए. क्यों कि कुछ ज्‍योतिषीय का मानना था कि यह दिन अशुभ और अमंगलकारी था. इसलिए हम कोई और तारीख रख सकते है. लेकिन लॉर्ड माउंटबेटन 15 अगस्त की तारीख को लेकर ही अड़े रहे. और भारत की आजादी का सबसे अच्छा दिन 15 अगस्त माना गया. इस दिन को खास मनाते हुए पुरे देश ने एक यादगार दिन बना दिया.

देश के सभी स्कूल और कॉलेज में प्रतियोगिता एवं निबंध स्पर्धा का प्रोग्राम आयोजित किया जाता है. विद्यार्थियों से स्वतंत्रता आंदोलन से संबंधित प्रश्न पूछे जाते है. इसके अलावा स्वतंत्रता पर भाषण भी दिए जाते है. इस वर्ष भारत अपना 75वां आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है. और हर घर तिरंगा का अभियान भी शुरू किया गया है. ताकि देशवासी भारतीय ध्वज को अपने घर लगाए और लोगो को प्रोत्साहित करे. इस साल आजादी के 75 साल पुरे होने पर सरकार द्वारा आजादी का अमृत महोत्सव शुरू किया गया है. इस महोत्सव का रंगारंग कार्यक्रम दिल्ली में आयोजित किया जायेगा. इस प्रोग्राम में देश के बच्चे, युवा साथी बढ़ चढ़कर हिस्सा लेंगे. कई दिनों तक यह कार्यक्रम चलेगा. लाल किले पर सेना की टुकड़ियों को देश की प्रधानमंत्री सलामी देंगे. सेना का बैंड द्वारा म्यूजिक कार्यक्रम होगा. इस दिन सभी सरकारी संस्था में ध्वजा रोहण किया जाता है और मिठाइयाँ बाटी जाती है. इस तरह का प्रोग्राम स्कूल और कॉलेज में भी किया जाता है. पुरे दिन देश में आजादी का पर्व मनाया जाता है. और राष्ट्रीय अवकाश भी होता है.

देश की आजादी के 75 साल पुरे हो गये है. यह दिन देश भक्ति की भावना पैदा करता है. लोग एक साथ होकर यह दिन मनाते है. अलग अगल भाषाएं, सांस्कृतिक, और धर्म के लोग एकजुट होते है. भारत एक अनेकता में एकता और सारतत्व शक्ति देश है. यह विश्व के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश का भाग है और इस बात से हम गर्व महसूस करते है. जहा पर सरकार जनता द्वारा चुनी जाती है. और जनता के हित में रहकर कार्य करती है. भारत एक ऐसा देश है जहा पर जनता के मुद्दे पर बात रखी जाती है और उसका निवारण भी जल्द से जल्द किया जाता है.

स्वतंत्रता दिवस पर 10 लाइन (Independence Day Essay 10 Line)

  • 15 अगस्त का दिन भारत में स्वतंत्रता दिवस के रूप में मनाया जाता है.
  • इस दिन स्वतंत्रता सेनानियों के द्वारा दिए गए अपने बलिदानों को याद किया जाता है.
  • स्वतंत्रता सेनानियों की गाथा को सुनकर इस दिन हमारे दिल में देश भक्ति की भावनाओ के साथ कुछ करने का दिल करता है.
  • महात्मा गाँधी, सुभाष चंद्र बोस, चंद्र शेखर आजाद जैसे स्वतंत्रता सेनानियों ने एकजुट होकर देश की आजादी के लिए संघर्ष किया.
  • इस दिन के अवसर पर विभिन्न स्थानों पर भारत का राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा फहराया जाता है.
  • इस दिन अधिकतर लोग राष्ट्रीय ध्वज के तीनों रंगों के मेल के वस्त्र पहनते है.
  • इस दिन पुरे देश का माहौल देशभक्ति की भावना में मनमोहित रहता है. देश भक्ति गीत के साथ स्वतंत्रता दिवस मानते है.
  • इस दिन सभी स्कूल, कॉलेज, विश्वविद्यालय और सरकारी दफ्तरों में स्वतंत्रता दिवस समारोह मनाया जाता है.
  • सभी स्कूल, कॉलेज, और सरकारी ऑफिस में स्वतंत्रता दिवस के मौके पर झंडा फ़हराया जाता है और स्वतंत्रता सेनानियों को याद किया जाता है.
  • इस दिन के शुभ अवसर पर कई कार्यक्रम आयोजित किये जाते है. जैसे भाषण देना, नाटक, नृत्य और प्रश्नोत्तरी इत्यादि.

निष्कर्ष – आज के इस लेख में हमने आपको स्वतंत्रता दिवस पर निबंध  ( 15 August Essay In Hindi ) के बारें में बताया. उम्मीद करते है आपको यह जानकारी जरूर पसंद आई होगी. अगर आपका कोई सुझाव है तो कमेंट करके जरूर बताइए. अगर आपको लेख अच्छा लगा हो तो रेटिंग देकर हमें प्रोत्साहित करें.

  • गणतंत्र दिवस पर निबंध
  • 15 अगस्त का इतिहास
  • भारत में दहेज प्रथा पर निबंध
  • महात्मा गांधी पर निबंध
  • संविधान के मौलिक अधिकार एवं कर्तव्य
  • 15 अगस्त पर भाषण
  • शिक्षक दिवस पर भाषण

RELATED ARTICLES MORE FROM AUTHOR

आज कौन सा दिन है | aaj kaun sa day hai, gold-silver price today | आज का सोने चांदी भाव रेट, गूगल आज का मौसम कैसा रहेगा | aaj ka mausam kaisa rahega, आज का तापमान कितना है – (live) today temperature – aaj ka tapman kitna hai, ड्रीम 11 में टीम कैसे बनाएं  |  dream11 par team kaise banaye, जानिए ias अफसर की सैलरी और अन्य लग्जरी सुविधाएं | ias officer salary and facilities in hindi, leave a reply cancel reply.

Save my name, email, and website in this browser for the next time I comment.

जानिए कितनी हैं Shark Tank India के जज की संपत्ति |...

विराट कोहली का जीवन परिचय | virat kohli biography in hindi, पृथ्वी के बारे में 25 रोचक तथ्य | earth facts in..., बी फार्मा क्या होता है पूरी जानकारी | b.pharma course..., जानिए iac विक्रांत के बारे में पूरी जानकारी | iac vikrant..., नील मोहन का जीवन परिचय | neal mohan biography in hindi, नए साल पर निबंध 2024 | happy new year essay in..., क्रिकेटर झूलन गोस्वामी बायोग्राफी | jhulan goswami biography in hindi, भारत में दहेज प्रथा पर निबंध | dowry system in india..., जगदीप धनखड़ का जीवन परिचय | jagdeep dhankhar biography in hindi.

  • Privacy Policy
  • Terms and Conditions
  • DMCA Copyright

राज्य सभा क्या है | Rajya Sabha Kya Hai in Hindi

क्या है एसपीजी सुरक्षा | spg security kya hai, चंद्र प्रकाश जोशी का जीवन परिचय | chandra prakash joshi biography..., तुनिषा शर्मा का जीवन परिचय | tunisha sharma biography in hindi.

Nibandh

15 अगस्त पर निबंध - Essay on 15 August in Hindi - 15 August par Nibandh

ADVERTISEMENT

रूपरेखा : प्रस्तावना - भारत की गुलामी का इतिहास - राष्ट्र का सिद्धांत - 15 अगस्त समारोह - सरकारी स्तर पर 15 अगस्त समारोह - अन्य कारणों से महत्त्वपूर्ण दिन - उपसंहार।

15 अगस्त अर्थात वह दिवस जब देश स्वतंत्र हुआ यानी आजाद हुआ था। यह हर भारतीय के लिए एक गर्व की बात है क्योंकि 15 अगस्त सन 1947 में भारत देश आज़ाद हुआ था और इस आज़ादी के पीछे रिपोर्ट के अनुसार लगभग 25 लाख भारतीयों ने कुर्बानी दी थी तब जाकर भारत आज़ाद देश कहा जाने लगा।

15 अगस्त यानी 15 अगस्त के दिन सभी सरकारी दफ्तरों में छुट्टी होती है और विद्यालयों और स्कूलों में कार्यक्रम रखा जाता है जिसमें देशभक्ति गीत तथा अभिनय भी किया जाता है तथा किसी मुख्य अतिथि को बुलाकर विद्यार्थियों को संबोधित भी किया जाता है।

15 अगस्त का शुभ दिन भारत के राजनीतिक इतिहास में सबसे अधिक महत्त्व का है। आज ही हमारी सघन कलुप-कालिमाययों दासता की लौह श्रृंखला टूटी थीं। आज ही स्वतंत्रता के प्रभात के दर्शन हुए थे। आज ही दिल्‍ली के लालकिले पर पहली बार यूनियन जैक के स्थान पर सत्य और अहिंसा का प्रतीक तिरंगा झंडा स्वतंत्रता की हवा के झोंकों से लहराया था। आज ही हमारे नेताओं के चिरसंचित स्वप्न चरितार्थ हुए थे। आज ही युगों के पश्चात शंख-ध्वनि के साथ जयघोप और पूर्ण स्वतंत्रता का उद्घोष हुआ था।

भारत आदि से हिन्दू-भूमि रहा है। पृथ्वीराज को परास्त करने के लिए राजा जयचन्द द्वारा विदेशी बादशाह मोहम्मद गौरी की सहायता लेना और पृथ्वीराज ड्रुरा गौरी को 17 बार परास्त करके बंदी न बनाने की ऐतिहासिक भूल ने हिन्दु-भुमि पर इडलाम का शासन स्थापित करवा दिया। मुगलों ने लगभग 1200 वर्ष तक भारत पर शारिवाक इसके बाद कूटनीनिज्ञ अंग्रेजों ने एयाश, विलासी और गद्दी-प्राप्ति के लिए रिक पड़्यंत्रों में संलग्न मुगल सल्तनत को जड़ें खोद कर ब्रिटिश राज्य स्थापित किया।

लगभग 200 वर्ष अंग्रेजों ने भारत में राज्य किया । उन्होंने भारत को एकसूत्र में पिरोकर एकात्मता के दर्शन करवाए। वैज्ञानिक उन्नति से देश को प्रगति-पथ पर अग्रसर किया। "लॉ एण्ड आर्डर"! की आदर्श व्यवस्था प्रस्तुत की। कूटनीति से श्रीलंका और बर्मा को भारत से अलग कर उन्हें स्वतंत्र राष्ट्र के रूप में प्रतिष्ठित किया। बंगाल को भी उन्होंने दो भागों में विभाजित करने की चेष्टा की थी, पर जनमत विरोध के कारण वे उसमें सफल न हो सके।

राजनीतिक दृष्टि से कांग्रेस ने ब्रिटिश राज्य को उखाड़ने के लिए अहिंसात्मक सत्याग्रह आन्दोलनों को अपनाया। क्रांतिकारियों ने सशस्त्र आक्रमणों द्वारा ब्रिटिश राज्य की नींद हराम की। सुभाषचन्द्र बोस द्वारा निर्मित 'आजाद हिन्द फोज' ने सैन्य बल से ब्रिटिश भारत पर आक्रमण किया। भारत स्वतन्त्र तो हुआ, किन्तु अंग्रेजों की कुटनीति, मुसलमानों की हिंसक प्रवृनि तथा कांग्रेस के कर्णधारों के नैतिक हास के कारण, द्वि-राष्ट्र सिद्धांत के आधार पर विभाजित होकर। ट्वि-राष्ट्र सिद्धांत था मुस्लिम गष्ट्र पाकिस्तान और हिन्दू- राष्ट्र हिन्दुस्तान । 14 अगस्त, 1947 को मुस्लिम-राष्ट्र पाकिस्तान का निर्माण होने पर हो 15 अगस्त, 1947 को यूनियन जैक भारत से उतरा।

15 अगस्त, 1947 को भारत स्वतन्त्र हुआ। अत: 15 अगस्त भारत का स्वतंत्र जन्म दिवस है। राष्ट्रीय-जीवन में हर्ष और उल्लास का दिन है। स्वतंत्रता की दीर्घायु की कामना का दिन है। इसलिए प्रांतों की राजधानियाँ तथा राष्ट्र की राजधानी दिल्ली राष्ट्रीय ध्वजों से सजाई जाता हैं। सरकारी राष्ट्रीय भवनों को विद्युत दीपों से अलंकृत किया जाता है। राष्ट्रीय स्तर पर मुख्य कार्यक्रम दिल्‍ली के लाल किले पर होता है। प्रातःकाल से ही लोग 'लालकिले 'पर पहुँचना प्रारंभ कर देते हैं । लालकिले के सामने का मैदान और सड़कें खचाखच भरी होती हैं। जन-समूह उमड़ पड़ता है।

प्रधानमंत्री के आगमन से पूर्व समारोह का आँखों देखा हाल सुनाने वालों द्वारा आजादी की लड़ाई तथा ऐतिहासिक चाँदनी चौक के इतिहास पर प्रकाश डाला जाता है । साथ ही ध्वनि-विस्तारक से राष्ट्रीय गीतों ओर धुनों से जन-जन में राष्ट्रीय भावनाएँ जागृत की जाती हैं। प्रधानमन्त्री के आगमन पर स्वतन्त्रता समारोह का शुभारम्भ होता है । जल, थल और नभ, तीनों सेनाओं को सैनिक टुकड़ियाँ तथा राष्ट्रीय छात्र सैन्य दल के छात्र-छात्राएँ सलामी देकर प्रधानमंत्री का स्वागत करते हैं । सैनिक बैंड अपनी मोहक धुन से स्वागत में माधुय-वृद्धि करता है।

प्रधानमंत्री लालकिले की प्राचीर पर पहुँच कर जन-जन का अभिनन्दन स्वीकार करते हैं। राष्ट्रीय ध्वज को लहराते हैं। ध्वजारोहण पर ध्वज को 31 तोपों की सलामी दी जाती है। प्रधानमंत्री ध्वजारोहण के उपरान्त राष्ट्र के 15 अगस्त की बधाई देते हैं । स्वतंत्रता के लिए न्यौछावर हुए शहोदों को स्मरण करते हैं। देश के कष्टों, कठिनाइयों, विपदाओं को चर्चा कर, उनसे राष्ट्र को मुक्त कराने का संकल्प करते हैं। देश की भावी योजनाओं पर प्रकाश डालते हैं। वर्ष-भर की उपलब्धियों पर हर्ष प्रकट करते हैं । राष्ट्र की शक्ति को निर्बल करने वाले आन्तरिक और बाद्य तत्त्वों पर प्रहार करते हैं । राष्ट्र को शत्रुओं के नापाक इरादों से सावधान करते हैं। भाषण के अन्त में तीन बार 'जयहिन्द' का घोष करते हैं, जिसे लाखों कंठ दुहराते हैं। अन्त में राष्ट्रीय गीत के साथ प्रातः:कालीन समारोह समाप्त होता है।

15 अगस्त अन्य कारणों से भी महत्त्वपूर्ण दिन है। पॉण्डिचेरी के संत महर्षि अरविन्द का जन्म दिन है। स्वामी विवेकानन्द के गुरु स्वामी रामकृष्णपरमहंस की पुण्य-तिथि है। भारत के सभी प्रान्तों में भी सरकारी स्तर पर यह पर्व मनाया जाता है। प्रभात-फेरियाँ निकलती हैं । मुख्यमंत्री पुलिस-गार्ड की सलामी लेते हैं । राज्य सचिवालयों पर राष्ट्रीय-ध्वज लहराया जाता है, आतिशबाजी छोड़ी जाती हैं और गण्यमान्य नागरिकों को भोज दिया जाता है।

सायंकाल सरकारी भवनों (विशेषकर लालकिले) पर रोशनी की जाती है। आतिशबाजी छोड़ी जाती है । प्रधानमंत्री दिल्‍ली के प्रमुख नागरिकों, सभी राजनीतिक दलों के नेताओं, विभिन्‍न धर्मों के आचार्यो और विदेशी राजदूतों एवं कूटनीतिज्ञों को सरकारी भोज पर निमन्त्रित करते हैं। इस प्रकार यह दिन हँसी-खुशी से बीत जाता है।

15 अगस्त राष्ट्र-स्वातन्त्रय के लिए न्यौछावर हुए शहीदों की याद का दिन है। इस दिन शहीदों की चिताओं के प्रतीक रूप में निर्मित "शहीद ज्योति" का अभिनन्दन किया जाता है। राष्ट्र को परतन्त्रकाल से नेतृत्व प्रदान करने वाले शहीद महात्मा गाँधी की समाधि पर श्रद्धा सुमन चढ़ाकर शहीदों के प्रति सम्मान प्रकट किया जाता है। पन्द्रह अगस्त प्रतिवर्ष आता है और 'हम स्वतन्त्र हैं और स्वतन्त्र रहेंगे', यह भाव जागृत कर चला जाता है । राष्ट्र और राष्ट्रीयवा की हल्की-सी हलचल उत्पन्न कर जाता है । वर्ष में राष्ट्र ने क्या खोया और क्या पाया' का हिसाब प्रस्तुत कर जाता है। थोड़ी देर के लिए ही सही भारतमाता और भारत की स्वतन्त्र-सत्ता के लिए कर्तव्य- भाव जगा जाता है।

आइए, हम राष्ट्र-ध्वज को नमन करें, अपने राष्ट्रीय संकल्प को दुहराएं तथा स्वयं को राष्ट्र के गौरव एवं भारतीय-जन के कल्याण के लिए पुनः समर्पण की प्रतिज्ञा करें।

Nibandh Category

IMAGES

  1. स्वतंत्रता दिवस पर निबंध/15 August Swatantrata Diwas par nibandh/Independence Day Essay

    15 august easy essay in hindi

  2. 15 अगस्त पर निबंध

    15 august easy essay in hindi

  3. 15 August Independence Day Essay In Hindi

    15 august easy essay in hindi

  4. New 15 August Independence Day Essay In Hindi Ideas

    15 august easy essay in hindi

  5. स्वतंत्रता दिवस पर निबंध (15 August Essay in hindi) 2023

    15 august easy essay in hindi

  6. Essay on Independence Day in Hindi

    15 august easy essay in hindi

VIDEO

  1. 15 august essay in hindi || स्वतंत्रता दिवस पर निबंध/15 August Swatantrata Diwas par nibandh

  2. 10 lines on Independence Day in hindi

  3. 15 august par bhashan 2022/15 अगस्त पर भाषण/independence day speech in hindi/15 Augest speech hindi

  4. स्वतंत्रता दिवस||Independence Day Essay In Hindi||15th August||Hindi Essay Writing

  5. India का वह राज्य जहां 15 August को नहीं मनाया जाता Independence Day

  6. 15 अगस्त पर निबंध/15 August/essay on independence day in Hindi/15 August per nibandh

COMMENTS

  1. 15 अगस्त पर निबंध हिंदी में

    15 अगस्त पर निबंध हिंदी में | स्‍वतंत्रता दिवस Independence Day Essay in Hindi. इस वर्ष हम सब भारत की आजादी के 76 वर्ष पूरे होने पर आजादी का अमृत महोत्सव मना ...

  2. स्वतंत्रता दिवस पर निबंध (Essay on Independence Day in Hindi) : 15

    15 अगस्त का दिन हर भारतीय के लिए बेहद खास होता है। खास हो भी क्यों ना, आखिर इस दिन हमारा देश आजाद हुआ था। तभी तो इस दिन भारत का स्वतंत्रता दिवस (swatantrata diwas essay in hindi ...

  3. स्वतंत्रता दिवस

    Read Also- 10 lines on Independence Day in Hindi. Short Independence Day Essay in Hindi ( 150 words ) 15 अगस्त भारत का स्वतंत्रता दिवस है। पहले हमारा देश गुलाम था। हमारे देश पर अंग्रेजों का शासन ...

  4. 15 अगस्त पर निबंध

    15 अगस्त 2022 पर निबंध हिंदी में. Essay on 15th August in Hindi:-भारत में हर साल 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस नाम के राष्ट्रीय त्यौहार के रूप में मनाया जाता है। 15 अगस्त प्रत्येक ...

  5. 15 अगस्त पर निबंध हिंदी में

    15 august essay Independence day in Hindi. स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर हमें भारतीय संस्कृति और इतिहास को भी अध्ययन करने का अवसर मिलता है। हमें अपने राष्ट्रीय ...

  6. "15 अगस्त" स्वतंत्रता दिवस पर निबंध

    15 August Independence Day Essay for Students of any Class, 15 August Nibandh in Hindi, Swatantrata Diwas par Nibandh 100, 200, 400, 500, 1000 Words - "15 अगस्त" भारत स्वतंत्रता दिवस पर निबंध ... 15 August - Independence Day essay in Hindi.

  7. 15 अगस्त पर निबंध: 15 August Essay in Hindi

    स्वतंत्रता दिवस पर निबंध: 15 अगस्त पर निबंध - 15 August Essay in Hindi 10 lines. 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस पर निबंध: 15 अगस्त हमारे देश का एक राष्ट्रीय पर्व है ...

  8. स्वतंत्रता दिवस पर निबंध (Essay on Independence Day in Hindi): 15 अगस्त

    स्वंत्रता दिवस पर निबंध (Essay on Independence Day in Hindi): 15 अगस्त का दिन हर भारतीय के लिए बहुत ही खास होता है। इस दिन हमारा देश आजाद हुआ था, इसलिए 15 अगस्त को भारत का ...

  9. 15 अगस्त पर निबंध

    Essay In Hindi कक्षा 1 से 4 के लिए निबंध कक्षा 5 से 9 के लिए निबंध कक्षा 10 से 12 के लिए निबंध प्रतियोगी परीक्षा के लिए निबंध ऋतुओं पर निबंध त्योहारों ...

  10. [Best 5] 15 August Per Nibandh in Hindi- Easy Essay [2022]

    15 August Essay in Hindi 15 अगस्त पर निबंध (100 शब्द) दिनांक 15 अगस्त 1947 भारत वर्ष के लिए बहुत ही खुशी का दिन है। इस दिन ही भारत को 200 वर्षो के बाद अंग्रेज़ो की गुलामी से आजादी ...

  11. 15 August Essay In Hindi

    Independence Day Short Essay In Hindi. 15 अगस्त 1947 का दिन भारत के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण दिन था। इस दिन अंग्रजों की लगभग 200 वर्ष की गुलामी के बाद हमारे भारत देश को आज़ादी प्राप्त ...

  12. स्वतंत्रता दिवस 15 अगस्त पर निबंध

    Check Jagran Josh. Independence Day Essay in Hindi for School: 15 अगस्त 1947 को हमारे इस मातृभूमि का पहला स्वतंत्रता ...

  13. 15 अगस्त (स्वतंत्रता दिवस) पर निबंध

    15 अगस्त पर निबंध इस आर्टिकल में पढ़िए और इस दिन हमारे देश में क्या - क्या किया जाता हैं सभी चीजों के बारे में जानिए। 15 August Par Nibandh in Hindi Me

  14. Independence Day Essay In Hindi 2022: 15 अगस्त ...

    Independence Day Essay In Hindi 2022 / स्वतंत्रता दिवस पर निबंध हिंदी में कैसे लिखें 2022: सन 1947 में 15 अगस्त (15 August 1947) के दिन भारत को ब्रिटिश शासन से पूर्ण आजादी मिली। तब से हर साल भारत ...

  15. 15 August Essay In Hindi

    15 August Essay In Hindi. 15 August Essay: India's Independence Day, celebrated on 15th August each year, holds a special place in the hearts of every Indian. It marks the day when India finally gained its freedom from British colonial rule. This day marks the historic moment when India gained independence from British colonial rule in 1947.

  16. 15 अगस्त पर निबंध

    15 अगस्त पर निबंध - 15 August Essay in Hindi. रूपरेखा : प्रस्तावना - स्वतंत्रता कैसे मिली - यह पर्व कैसे मनाते हैं - दिल्ली की रौनक - सामाजिक कार्यक्रम - 15 ...

  17. 15 अगस्त पर भाषण हिंदी में (15 August Speech in Hindi)

    15 अगस्त पर भाषण हिंदी में (15 august speech in hindi) - 15 अगस्त पर 10 पंक्तियाँ (10 Lines On 15 August) वर्ष 1947 में ब्रिटिश शासन से देश को मिली आजादी की स्मृति में भारत ...

  18. 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस पर निबंध (Independence Day Essay In Hindi)

    स्वतंत्रता दिवस पर निबंध 100 शब्द, 150 शब्द 200 शब्द, 250 शब्द, 600 शब्द, 1000 शब्द में, 15 अगस्त पर निबंध हिंदी में (15 August essay in hindi 10 lines, Independence Day Essay In Hindi, 10 Lines 100 Words, 150 Words, 300 Words, 500 Words)

  19. 15 अगस्त पर हिंदी में भाषण (15 August Speech In Hindi): स्वतंत्रता दिवस

    हर साल 15 अगस्त को हर भारतीय स्वतंत्रता दिवस (Swatantrata Diwas in Hindi) मनाता है। इसी दिन 1947 में हमें अंग्रेजों की गुलामी से आजादी मिली थी। यह आजादी के लिए बलिदान देने ...

  20. 15 अगस्त पर निबंध

    ncert-books.com offers NCERT Solutions, RD Sharma Solutions, video lectures, notes, tests, textbook solutions, CBSE sample papers, solved past year papers, Formulas, and Extra Questions for CBSE, IIT JEE Main and Advanced, NEET. Start your preparation with ncert-books.com now.

  21. 15 August Essay In Hindi

    स्वतंत्रता दिवस (15 अगस्त) पर निबंध, 100 शब्द, 200 शब्द, 250 शब्द, 300 शब्द, 500 शब्द, 800 शब्द, 10 लाइन, 20 लाइन (15 August Essay In Hindi, Independence Day, Class 2, Class 5class 3, Class 5, Class 7, Nibandh, Short Essay, Vrutant Lekhan, Writing )

  22. Essays 15 August

    स्वतंत्रता का मंगल पर्व इस बात का साक्षी है कि स्वतंत्रता एक अमूल्य वस्तु है। अनेक देशभक्तों ने भारत के सिर पर ताज रखने के लिए अपना उपसर्ग कर दिया है ...

  23. 15 अगस्त पर निबंध

    15 अगस्त पर निबंध - Essay on 15 August in Hindi - 15 August par Nibandh ADVERTISEMENT Essay on 15 August/Independence Day 2021 in Hindi Language for Class 5,6,7,8,9,10,11,12 Students and Teachers.